Breaking News

Latest News

Watch the latest news

अकीदत के साथ पड़ी गई न्यूरिया ईदगाह में ईद की नमाज, दुआ में उठे एक साथ हजारो हाथ।

(16, June)

पीलीभीत/न्यूरिया:- ईद-उल फितऱ की नमाज न्यूरिया ईदगाह मैदान में शनिबार की सुबह पौने दस बजे पूरी अकीदत के साथ पढ़ी गई।नमाज मदरसा दारुलूम गौसिया के मुफ़्ती मौलाना मंजूर आलम की सरपरस्ती में जामा मस्जिद के इमाम कारी जलीस अहमद ने अदा कराई।सुबह साढ़े आठ बजे से ही नमाजियों का रेला ईदगाह की ओर आता दिखाई देने लगा।साढे नौ बजते-बजते ईदगाह का अंदरूनी हिस्सा खचाखच भर गया।देर से पहुंचे लोग ईदगाह की सीढ़ी से लेकर बाहर सड़क पर चादर व जानमाज बिछाकर नमाज पढ़ते नजर आए।कारी जलीस अहमद ने नमाज के बाद मुल्क एवं कस्बे की खुशहाली व तरक्की के लिए दुआ कराई।दुआ के बाद लोगों ने एक दूसरे को गले मिलकर ईद की बधाई दी। नमाज से पहले मौलाना मो जफर, मौलाना शहबान ने रसूल अल्लाह सल्ललाहु अलैहे वसल्लम की जिंदगी के बारे में बताया।लोगों को उनकी सुन्नतों पर अमल करने की ताकीद की गई।इस दौरान पूर्व राज्यमंत्री हाजी रियाज अहमद ने हर साल की तरह ईद की नमाज न्यूरिया ईदगाह मैदान में पड़ी। इस मौके पर नगर पंचायत चेयरमैन पति अब्दुल फय्युम, अब्दुल सत्तार, तालिब हुसैन, रहीस अहमद,मो यूसुफ, मुजफ्फर, हुसैन, मो आसिफ, मौलाना नफीस अहमद, एसआई शकील अहमद, माजिद अली, मो राशिद, मुख्तियार हुसैन, शाहिद हुसैन, अकबर हुसैन, इंकलाब अहमद समेत हजारो की संख्या में मौजूद नमाजियों ने एक साथ ईदुल-फितर की नमाज अदा की।ईद के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता रखी गई थी थाना प्रभारी निरीक्षक सुरेस कुमार सिंह पुलिस फोर्स के साथ ईदगाह के पास चौकसी बरतते दिखाई दिए इस बीच तहसीलदार सदर बिजय प्रकाश त्रिवेदी भी राजस्व कर्मियों के साथ मौजूद रहे

Read More

  Share Article On :  

             Share  


श्रीनगर व पूरे महोबा जिले में भी मुस्लिम भाइयों ने ईद की नमाज ईदगाह में अदा की। नमाज अदा करने के बाद सभी लोगों ने गले मिलकर एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी।

(16, June)

✍ईद उल-फितर पर विशेष✍ 🌙🌙 (ईद मुबारक) 🌙🌙 श्रीनगर( महोबा ) आज जहाँ पूरे देश में ईद ( ईद उल फितर ) का त्योहार पूरे हर्सोल्लास के साथ मनाया गया तो वहीं बुन्देलखण्ड के मनमोहक कहे जाने वाले श्रीनगर व पूरे महोबा जिले में भी मुस्लिम भाइयों ने ईद की नमाज ईदगाह में अदा की। नमाज अदा करने के बाद सभी लोगों ने गले मिलकर एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी। हिन्दू और मुस्लिम दोनों ही समुदाय के लोगों ने भाईचारे के साथ गले मिलकर ईद के त्योहार की मुबारकबाद दी। मीठी ईद को ईद उल फितर कहा जाता है। पहली बार ईद उल-फितर 624 ईस्वी में मनाई गई थी। ईद मुस्लिमों का सबसे बड़ा त्यौहार है। हिन्दी में ईद का अर्थ त्योहार या पर्व होता है। मुस्लिम समाज के लोग ईद के दिन खुशियाँ मनाते हैं, दावत का लुत्फ उठाते हैं, नये कपड़े पहनते हैं, औऱ ईदगाह जाकर खुदा की इबादत करते हैं, सिर्फ मुसलमान नहीं बल्कि सभी धर्मों के लोग ईद के जश्न में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेते हैं। ईद का दिन चाँद तय करता है। रमजान माह की आखिरी रात को लोग चाँद का दीदार करने के बाद ही अगली सुबह ईद मनाई जाती है। इस्लाम धर्म में साल में दो बार ईद मनाई जाती है, पहली मीठी ईद जिसे ईद उल-फितर कहा जाता है और दूसरी बकराईद जिसे ईद उल जुहा कहा जाता है। रमजान के महीने में 30 दिन के रोजे के बाद जो ईद होती है उसे ईद उल फितर कहते हैं, इसे मीठी ईद भी कहा जाता है। मान्यता है कि पैगम्बर हजरत मुहम्मद ने बद्र के युद्ध में विजय हासिल की थी, इसी खुशी में ईद उल-फितर मनाई जाती है, माना जाता है कि पहली बार ईद उल-फितर 624 ईस्वी में मनाई गई थी इस दिन मीठे पकवान बनाये और खाये जाते हैं। दान देकर अल्लाह को याद किया जाता है। इस दान को इस्लाम में फितरा कहते हैं।इस ईद में सभी आपस में गले मिलकर अल्लाह से सुख-शान्ति और बरकत के लिये दुआएं मांगते हैं। के वी न्यूज़ इंडिया परिवार से एडवोकेट पुष्पेंद्र कुमारब्यूरो चीफ महोबा केमरामेन अमित राठौर की तरफ से आप सभी देश वासियों को ईद उल फितर की ढेर सारी मुबारक बाद।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।। 🌙🌙🌙🌙🌙🌙🌙🌙

Read More

  Share Article On :  

             Share  



श्रीनगर व पूरे महोबा जिले में भी मुस्लिम भाइयों ने ईद की नमाज ईदगाह में अदा की। नमाज अदा करने के बाद सभी लोगों ने गले मिलकर एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी।

(16, June)

✍ईद उल-फितर पर विशेष✍ 🌙🌙 (ईद मुबारक) 🌙🌙 श्रीनगर( महोबा ) आज जहाँ पूरे देश में ईद ( ईद उल फितर ) का त्योहार पूरे हर्सोल्लास के साथ मनाया गया तो वहीं बुन्देलखण्ड के मनमोहक कहे जाने वाले श्रीनगर व पूरे महोबा जिले में भी मुस्लिम भाइयों ने ईद की नमाज ईदगाह में अदा की। नमाज अदा करने के बाद सभी लोगों ने गले मिलकर एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी। हिन्दू और मुस्लिम दोनों ही समुदाय के लोगों ने भाईचारे के साथ गले मिलकर ईद के त्योहार की मुबारकबाद दी। मीठी ईद को ईद उल फितर कहा जाता है। पहली बार ईद उल-फितर 624 ईस्वी में मनाई गई थी। ईद मुस्लिमों का सबसे बड़ा त्यौहार है। हिन्दी में ईद का अर्थ त्योहार या पर्व होता है। मुस्लिम समाज के लोग ईद के दिन खुशियाँ मनाते हैं, दावत का लुत्फ उठाते हैं, नये कपड़े पहनते हैं, औऱ ईदगाह जाकर खुदा की इबादत करते हैं, सिर्फ मुसलमान नहीं बल्कि सभी धर्मों के लोग ईद के जश्न में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेते हैं। ईद का दिन चाँद तय करता है। रमजान माह की आखिरी रात को लोग चाँद का दीदार करने के बाद ही अगली सुबह ईद मनाई जाती है। इस्लाम धर्म में साल में दो बार ईद मनाई जाती है, पहली मीठी ईद जिसे ईद उल-फितर कहा जाता है और दूसरी बकराईद जिसे ईद उल जुहा कहा जाता है। रमजान के महीने में 30 दिन के रोजे के बाद जो ईद होती है उसे ईद उल फितर कहते हैं, इसे मीठी ईद भी कहा जाता है। मान्यता है कि पैगम्बर हजरत मुहम्मद ने बद्र के युद्ध में विजय हासिल की थी, इसी खुशी में ईद उल-फितर मनाई जाती है, माना जाता है कि पहली बार ईद उल-फितर 624 ईस्वी में मनाई गई थी इस दिन मीठे पकवान बनाये और खाये जाते हैं। दान देकर अल्लाह को याद किया जाता है। इस दान को इस्लाम में फितरा कहते हैं।इस ईद में सभी आपस में गले मिलकर अल्लाह से सुख-शान्ति और बरकत के लिये दुआएं मांगते हैं। के वी न्यूज़ इंडिया परिवार से एडवोकेट पुष्पेंद्र कुमारब्यूरो चीफ महोबा केमरामेन अमित राठौर की तरफ से आप सभी देश वासियों को ईद उल फितर की ढेर सारी मुबारक बाद।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।। 🌙🌙🌙🌙🌙🌙🌙🌙

Read More

  Share Article On :  

             Share  


श्रीनगर व पूरे महोबा जिले में भी मुस्लिम भाइयों ने ईद की नमाज ईदगाह में अदा की। नमाज अदा करने के बाद सभी लोगों ने गले मिलकर एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी।

(16, June)

✍ईद उल-फितर पर विशेष✍ 🌙🌙 (ईद मुबारक) 🌙🌙 श्रीनगर( महोबा ) आज जहाँ पूरे देश में ईद ( ईद उल फितर ) का त्योहार पूरे हर्सोल्लास के साथ मनाया गया तो वहीं बुन्देलखण्ड के मनमोहक कहे जाने वाले श्रीनगर व पूरे महोबा जिले में भी मुस्लिम भाइयों ने ईद की नमाज ईदगाह में अदा की। नमाज अदा करने के बाद सभी लोगों ने गले मिलकर एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी। हिन्दू और मुस्लिम दोनों ही समुदाय के लोगों ने भाईचारे के साथ गले मिलकर ईद के त्योहार की मुबारकबाद दी। मीठी ईद को ईद उल फितर कहा जाता है। पहली बार ईद उल-फितर 624 ईस्वी में मनाई गई थी। ईद मुस्लिमों का सबसे बड़ा त्यौहार है। हिन्दी में ईद का अर्थ त्योहार या पर्व होता है। मुस्लिम समाज के लोग ईद के दिन खुशियाँ मनाते हैं, दावत का लुत्फ उठाते हैं, नये कपड़े पहनते हैं, औऱ ईदगाह जाकर खुदा की इबादत करते हैं, सिर्फ मुसलमान नहीं बल्कि सभी धर्मों के लोग ईद के जश्न में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेते हैं। ईद का दिन चाँद तय करता है। रमजान माह की आखिरी रात को लोग चाँद का दीदार करने के बाद ही अगली सुबह ईद मनाई जाती है। इस्लाम धर्म में साल में दो बार ईद मनाई जाती है, पहली मीठी ईद जिसे ईद उल-फितर कहा जाता है और दूसरी बकराईद जिसे ईद उल जुहा कहा जाता है। रमजान के महीने में 30 दिन के रोजे के बाद जो ईद होती है उसे ईद उल फितर कहते हैं, इसे मीठी ईद भी कहा जाता है। मान्यता है कि पैगम्बर हजरत मुहम्मद ने बद्र के युद्ध में विजय हासिल की थी, इसी खुशी में ईद उल-फितर मनाई जाती है, माना जाता है कि पहली बार ईद उल-फितर 624 ईस्वी में मनाई गई थी इस दिन मीठे पकवान बनाये और खाये जाते हैं। दान देकर अल्लाह को याद किया जाता है। इस दान को इस्लाम में फितरा कहते हैं।इस ईद में सभी आपस में गले मिलकर अल्लाह से सुख-शान्ति और बरकत के लिये दुआएं मांगते हैं। के वी न्यूज़ इंडिया परिवार से एडवोकेट पुष्पेंद्र कुमारब्यूरो चीफ महोबा केमरामेन अमित राठौर की तरफ से आप सभी देश वासियों को ईद उल फितर की ढेर सारी मुबारक बाद।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।। 🌙🌙🌙🌙🌙🌙🌙🌙

Read More

  Share Article On :  

             Share  



National News

Latest News in details

के वी न्यूज़ इंडिया में पत्रकारों के लिए निकली वैकेंसी, जल्दी करें अप्लाई

(10, April)

के वी न्यूज़ इंडिया में पत्रकारों के लिए निकली वैकेंसी, जल्दी करें अप्लाई

अगर पत्रकारिता आपका जुनून है और इस क्षेत्र में आप अपना कैरियर बनाना चाहते हैं तो के वी न्यूज़ इंडिया लेकर आया है आपके लिए एक सुनहरा मौका। के वी न्यूज़ इंडिया को जरूरत है प्रतिभावान लोगों की। अगर आपकी रूचि रोज कुछ नया और अलग करने में है तो जल्दी ही अपना अपडेटेड रिज्यूमे हमें भेजिए। धन्यवाद... आवश्यक पद 1. एंकर कुशल और अनुभवी मेल या फीमेल 2 एंकर्स वेतनः योग्यता अनुसार 2. प्रोड्यूसर( Output) कुशल और अनुभवी 4 आउटपुट प्रोड्यूसर वेतनः योग्यता अनुसार 3. प्रोमो प्रोड्यूसर कुशल और अनुभवी 1 प्रोमो प्रोड्यूसर वेतनः योग्यता अनुसार 4.वीडियो एडिटर कुशल और अनुभवी 4 वीडियो एडिटर्स वेतनः योग्यता अनुसार 5.कॉपी एडिटर( Digital) कुशल और अनुभवी 6 डिजिटल कॉपी एडिटर्स वेतनः योग्यता अनुसार 6. रिपोर्टर कुशल और अनुभवी भारत में सभी राज्य और सभी जनपदों के लिए रिपोर्टर्स 7. स्ट्रिंगर कुशल और अनुभवी 5 दिल्ली के लिए स्ट्रिंगर नोटः अपना अपडेटेड रिज्यूमे kvnewsindia@yahoo.in या news@kvnewsindia.com पर भेजे। अनुभवी अभ्यर्थियों को प्राथमिकता दी जाएगी।


  Share Article On :  

             Share  

  Share Article On :  

             Share  

BharatBandh: प्रदर्शनकारी का गोली चलाते वीडियो आया सामने

(02, April)

BharatBandh: प्रदर्शनकारी का गोली चलाते वीडियो आया सामने

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के एससी-एसटी एक्ट पर फैसले के खिलाफ दलित संगठनों के बुलाए भारत बंद ने कई शहरों में हिंसक रूप ले लिया है। देशभर से हिंसा की खबरें हैं लेकिन मध्य प्रदेश में हालात नाजुक हो गए हैं। मध्य प्रदेश के कई शहरों में धारा 144 लगा दी गई है. कुछ जगहों पर कर्फ्यू भी लगाना पड़ा है। इस बीच एक वीडियो सामने आया है, जिसमें प्रदर्शनकारियों के बीच से एक शख्स रिवाल्वर से फायरिंग करता दिख रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि ये शख्स हवा में गोली नहीं चला रहा है बल्कि सीधे फायरिंग कर रहा है।


  Share Article On :  

             Share  

प. बंगाल: रामनवमी की हिंसा से सबक, हनुमान जयंती पर हथियार के साथ रैली पर बैन

(31, March)

प. बंगाल: रामनवमी की हिंसा से सबक, हनुमान जयंती पर हथियार के साथ रैली पर बैन

हनुमान जयंती के अवसर पर पश्चिम बंगाल में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए है। दरअसल रामनवमी के दौरान हुई हिंसा के बाद पुलिस ने सबक ले लिया है। इसलिए ही राज्य में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पुलिस ने अगले दो दिनों तक सभी मंदिरों, मस्जिदों और धार्मिक संस्थानों को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान की है। साथ ही सशस्त्र रैलियों पर रोक लगा दी है। पश्चिम की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को राज्य के डीजीपी, एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर), गृह सचिव और मुख्य सचिव के साथ बैठक की। इस बैठक के दौरान उन्होंने हिंसा की घटना किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिए।


  Share Article On :  

             Share  

पेपर लीक के चलते CBSE दोबारा करवाएगा 10वीं के गणित और 12वीं के अर्थशास्त्र के Exam

(28, March)

पेपर लीक के चलते CBSE दोबारा करवाएगा 10वीं के गणित और 12वीं के अर्थशास्त्र के Exam

नई दिल्ली। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने दो बोर्ड परीक्षाओं का दोबारा से करवाने का फैसला लिया है। आरोप है कि ये दो पेपर लीक हो गए थे। इसलिए ये दो पेपर दोबारा होंगे। सीबीएसई बोर्ड कक्षा 10वीं के गणित और कक्षा 12वीं के अर्थशास्त्र को दोबारा करवाएगा।सरकारी सूत्रों के अनुसार छात्रों को परेशान होने की आवश्यकता नहीं है और छात्रों के हितों का ध्यान रखा जाएगा। कक्षा 10वीं के गणित के पेपर का आयोजन बुधवार को ही किया गया था, लेकिन पेपर लीक की रिपोर्ट के बाद इसे रद्द कर दिया गया है। वहीं अर्थशास्त्र का पेपर सोमवार को करवाया गया था और उस दिन आरोप लगे थे कि परीक्षा से पहले परीक्षा का पेपर सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था।जानकारी के अनुसार, गणित के पेपर लीक से जुड़े गिरोह का पता लग गया है। सरकार दोबारा होने वाली परीक्षा में पेपर लीक से बचने के लिए एक सुरक्षित सिस्टम लाने की कोशिश कर रही है। वहीं 12वीं बोर्ड के अर्थशास्त्र के पेपर के बाद पेपर लीक के आरोप लगने पर बोर्ड ने कहा था कि इस मामले की जांच की जाएगी, हालांकि बोर्ड ने पेपर लीक की ख़बर से इंकार कर दिया था।


  Share Article On :  

             Share  

वाराणसी के विकास से खुश दिखे राष्ट्रपति, कहा- 'प्राचीनता-परंपरा' के साथ आधुनिकता की ओर शहर

(26, March)

वाराणसी के विकास से खुश दिखे राष्ट्रपति, कहा- 'प्राचीनता-परंपरा' के साथ आधुनिकता की ओर शहर

वाराणसी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार को वाराणसी के दौरे पर पहुंचे। एयरपोर्ट पर उनका स्वागत राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया। राष्ट्रपति के रूप में रामनाथ कोविंद का ये पहला वाराणसी दौरा है। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ये संसदीय क्षेत्र भी है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि बतौर राष्ट्रपति बाबा काशी विश्वनाथ की नगरी में मेरी पहली यात्रा है। मेरे लिए यह अविस्मरणीय अनुभव है। उन्होंने कहा कि वाराणसी में जो भी बदलाव आ रहा है, उसमें प्राचीनता और परम्परा के साथ आधुनिक तरीके से विकास हो रहा है। दीनदयाल संकुल में वाराणसी को करोड़ों की सौगात देने के बाद राष्ट्रपति ने वाराणसी के विकास की बेमिसाल तुलना की। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दीनदयाल संकुल में एनएचएआई के 5 परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इसमें 2118 करोड़ रुपए वाराणसी से एमपी बार्डर के हनुमान के 125 की तीन प्रोजेक्ट और 1355 करोड़ के 44 किमी के रिंगरोड फेज 2 का शिलान्यास भी है। इसके साथ ही उन्होंने कौशल विकास के 10 अभ्यर्थियों को नियुक्ति प्रमाण पत्र दिया।


  Share Article On :  

             Share  

Rajya Sabha Election 2018 LIVE: बीजेपी ने नौवीं सीट पर भी जीत दर्ज की, अनिल अग्रवाल ने मारी बाजी

(23, March)

Rajya Sabha Election 2018 LIVE: बीजेपी ने नौवीं सीट पर भी जीत दर्ज की, अनिल अग्रवाल ने मारी बाजी

राज्य सभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश, कर्नाटक सहित सभी राज्यों में वोटों की गिनती लगभग खत्म हो गई है। यूपी में राज्य सभा की 10वीं सीट पर आखिरकार भाजपा ने जीत दर्ज कर ली है। भाजपा प्रत्याशी अनिल अग्रवाल ने भीमराव अंबेडकर को हरा दिया। राज्यसभा चुनाव के लिए मतदान की प्रक्रिया सुबह 9 बजे से शुरू हुई जो शाम 4 बजे तक चली थी। 10:35 pm अनिल अग्रवाल को 33 जबकि भीमराव अंबेडकर को 32 वोट मिले, अंतिम गणना कुछ देर में पूरी हो जाएगी 10:16 pm बीजेपी ने नौवीं सीट पर भी जीत दर्ज की, अनिल अग्रवाल ने मारी बाजी 09:55 pm जीत के लिए 37 वोटों की जरूरत थी। जया बच्चन को मिला एक ज्यादा वोट बीएसपी के भीम राव आंबेडर को ट्रांसफर हो जाएगा। 09:54 pm बीजेपी के आठ उम्मीदवार जीते, समाजवादी पार्टी की जया बच्चन भी 38 वोट से जीतीं 09:50 pm यूपी में 10 में से चार सीटों के नतीजे आए, अरुण जेटली, अनिल जैन, जीवीएल नरसिम्हाराव के बाद बीजेपी के सकलदीप राजभर भी जीते 09:46 pm अरुण जेटली समेत बीजेपी के 8 उम्मीदवारों की जीत 09:43 pm उत्तर प्रदेश राज्यसभा चुनाव की 10 में से तीन के नतीजे आए, अनिल जैन के बाद अरुण जेटली और जीवीएल नरसिम्हा राव चुनाव जीत गए हैं 10:35 pm अनिल अग्रवाल को 33 जबकि भीमराव अंबेडकर को 32 वोट मिले, अंतिम गणना कुछ देर में पूरी हो जाएगी 10:16 pm बीजेपी ने नौवीं सीट पर भी जीत दर्ज की, अनिल अग्रवाल ने मारी बाजी 09:55 pm जीत के लिए 37 वोटों की जरूरत थी। जया बच्चन को मिला एक ज्यादा वोट बीएसपी के भीम राव आंबेडर को ट्रांसफर हो जाएगा। 09:54 pm बीजेपी के आठ उम्मीदवार जीते, समाजवादी पार्टी की जया बच्चन भी 38 वोट से जीतीं 09:50 pm यूपी में 10 में से चार सीटों के नतीजे आए, अरुण जेटली, अनिल जैन, जीवीएल नरसिम्हाराव के बाद बीजेपी के सकलदीप राजभर भी जीते 09:46 pm अरुण जेटली समेत बीजेपी के 8 उम्मीदवारों की जीत 09:43 pm उत्तर प्रदेश राज्यसभा चुनाव की 10 में से तीन के नतीजे आए, अनिल जैन के बाद अरुण जेटली और जीवीएल नरसिम्हा राव चुनाव जीत गए हैं 09:20 pm यूपी में बीजेपी के अनिल जैन चुनाव जीते 08:50 pm राज्यसभा चुनाव: कर्नाटक की तीनों सीट पर कांग्रेस की जीत 08:25 pm राज्यसभा चुनाव: झारखंड में दोनों सीटों के नतीजे आए, एक सीट पर बीजेपी और एक सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार की जीत 07:48 pm राज्यसभा चुनाव: पश्चिम बंगाल में टीएमसी की जीत के बाद ममता बनर्जी ने दिखाया विक्ट्री साइन 07:44 pm यूपी: चुनाव आयोग ने नितिन अग्रवाल और अनिल सिंह का वोट मान्य करार दिया, क्रॉस वोटिंग के लगे थे आरोप 07:28 pm कर्नाटक में वोटों की गिनती शुरू 07:11 pm झारखंड में भी वोटों की गिनती शुरू 06:59 pm यूपी में राज्यसभा के लिए वोटों की गिनती शुरू 06:52 pm पश्चिम बंगाल में पांचवी सीट पर कांग्रेस के अभिषेक मनु सिंघवी की जीत हुई है 06:52 pm राज्यसभा चुनाव: पश्चिम बंगाल से पांचों सीटों के नतीजे आए, 4 सीट पर टीएमसी की जीत हुई 06:45 pm यूपी के बाद कर्नाटक और झारखंड में भी वोटों की गिनती रोकी गई 06:37 pm SP-BSP ने चुनाव आयोग से की बसपा विधायक अनिल सिंह और सपा विधायक नितिन अग्रवाल के वोट अमान्य करार देने की मांग 06:19 pm छत्तीसगढ़: राज्यसभा चुनाव में BJP की सरोज पांडेय ने दर्ज की जीत, कांग्रेस के लेखराम साहू को हराया 06:05 pm UP: चुनाव आयोग के निर्देश के बाद ही वोटों की गिनती फिर शुरू होगी 06:04 pm उत्तर प्रदेश: मतपत्रों में आपत्तियों के चलते EC ने राज्यसभा चुनाव के लिए मतगणना को अनुमति नहीं दी है 05:30 pm राज्यसभा चुनाव के बाद शाम 5 बजे के बाद वोटों गिनती शुरू हो गई 04:31 pm राज्यसभा चुनाव के लिए वोटिंग समाप्त, कुछ देर में होगी वोटों की गिनती 04:31 pm झारखंड विकास मोर्चा के विधायक प्रकाश राम का वोट रद्द करने की मांग 04:31 pm राज्यसभा चुनाव: झारखंड में कांग्रेस ने चुनाव आयोग को सौंपा ज्ञापन 03:33 pm कर्नाटक: जेडीएस ने चुनाव आयोग से चुनाव रद्द कराने की मांग 03:33 pm कर्नाटक: जेडीएस का आरोप, कांग्रेस के दो विधायकों ने की क्रॉस वोटिंग 02:53 pm अखिलेश यादव के समर्थन में वोट देने का ऐलान करने के बाद सीएम योगी से मिलने पहुंचे राजा भैया 02:52 pm यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से मिलने पहुंचे निर्दलीय विधायक राजा भैया 01:16 pm हमारा वोट अखिलेश यादव के साथ है, जया बच्चन को वोट देंगे: राजा भैया 12:32 pm कर्नाटक: बेंगलुरू में विधानसभा भवन में राज्यसभा की चार सीटों के लिए वोटिंग जारी 12:30 pm छत्तीसगढ़: राज्यसभा की एक सीट के लिए रायपुर में विधानसभा भवन पहुंचे विधायक 12:30 pm केरल में राज्यसभा की एक सीट के लिए वोटिंग जारी, शाम 4 बजे तक होगा मतदान 12:30 pm तेलंगाना में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए वोटिंग जारी, वोट डालने पहुंचे विधायक 11:49 am यूपी के निर्दलीय विधायक अमनमणि त्रिपाठी ने दिया भाजपा को वोट 11:44 am न मैं बदला हूं, न मेरी राजनैतिक विचारधारा बदली है, ‘मैं अखिलेश जी के साथ हूं,’ का ये अर्थ बिल्कुल नहीं कि मैं बसपा के साथ हूं - राजा भैया | 11:36 am वोट डालने के बाद बोले नितिन अग्रवाल, हमारे सभी 9 उम्मीदवार चुनाव जीतेंगे 11:36 am नरेश अग्रवाल के बेटे नितिन अग्रवाल ने दिया भाजपा को वोट, सपा के टिकट पर जीते थे चुनाव 10:41 am वोट डालने के बाद बोले अनिल सिंह, मैंने भाजपा को वोट दिया, बाकी का मुझे नहीं पता यूपी में पहली क्रॉस वोटिंग, बसपा विधायक अनिल सिंह ने भाजपा को वोट दिया 10:03 am भाजपा राज्यसभा की सभी 9 सीटें जीतेगी: केशव प्रसाद मौर्य, डिप्टी सीएम यूपी 10:01 am हमारी पार्टी में कोई क्रॉस वोटिंग नहीं होगी, हां भाजपा के विधायक जरूर हमारे पक्ष में क्रॉस वोट डालेंगे: रामगोपाल यादव, सपा सांसद | 09:59 am राज्यसभा चुनाव: कर्नाटक विधानसभा में कांग्रेस विधायकों से मिले सीएम सिद्धारमैया 09:58 am राज्यसभा चुनाव: पश्चिम बंगाल में 5 सीटों के लिए मतदान शुरू, वोट डालने पहुंचे विधायक 09:50 am हमारे सभी 9 उम्मीदवार जीत हासिल करेंगे, जिन्हें पीएम मोदी और सीएम योगी की नीतियों पर विश्वास है, वो हमें वोट देंगे: मंत्री स्वाति सिंह 09:49 am यूपी विधानसभा में भाजपा विधायकों से मिले सीएम योगी आदित्यनाथ 07:31 am वहीं जिन सीटों पर आज चुनाव है उसमें छत्तीसगढ़ की 1, कर्नाटक की 4, तेलंगाना की 3, उत्तर प्रदेश की 10, पश्चिम बंगाल की 5 और झारखंड की की 3 सीटें शामिल हैं 07:26 am राज्यसभा की 58 सीटों में से 33 सीटों पर निर्विरोध चुनाव हुआ है। इसमें आंध्र की 3, बिहार की 6, गुजतरा की 4, हरियाणा की 1, हिमाचल प्रदेश की 1, मध्य प्रदेश की 5, महाराष्ट्र की 6, उत्तराखंड की 1, ओडिशा की 3 और राजस्थान की 3 सीट शामिल है।


  Share Article On :  

             Share  

KV News

Feed

Local News

Local News

Latest News in details

ग्रामीण क्षेत्र की समस्याओं एवं जूनियर हाईस्कूल विद्यालय की भूमि अतिक्रमण मुक्त कराने हेतु आमरण अनशन

(12, April)

ग्रामीण क्षेत्र की समस्याओं एवं जूनियर हाईस्कूल पिपरामाफ विधालय की जमीन को अतिक्रमण मुक्त करनें के लिए पूर्व मैं कई आवेदन एवं आईजीआरएस पर शिकायतें दर्ज कराईं गई जिसमें फर्जी रिपोर्ट लगा कर समास्या निस्तारण दर्शा दी जाती रही ,8,मार्च 2018 को आमरण अनशन शुरू किया गया जिसपर 9 मार्च को शाम लगभग नो बजे जिलाधिकारी एवं क्षेत्रीय विधायक द्वारा आशवासन दिया गया की आपकी मागों पर तीन दिवस के अंदर जमीन का सीमांकन करते हुए अतिक्रमणकारियों के खिलाफ कार्यवाही करेंगे ,सीमांकन तो किया गया लेकिन जो उस भूमि पर मकान बनें पाये गये उनपर कोई कार्यवाही नहीं हुई जिनके नाम भी सीमांकन करने आई टीम ले गई थी , तीन दिन का समय लेने के बाद एक माह हो गया कोई ठोस कार्यवाही न करनें पर पुनः 12 अप्रैल सुबह 10बजे से आमरण अनशन शुरू कर दिया ।शासन प्रशासन ने मेरे साथ धोका किया है झूठा आशवासन दिया था प्रमुख मागें । 1,विधालय की भूमि अतिक्रमण मुक्त करानें। 2,उर्मिल बांध के डूब क्षेत्र की भूमि पर हो रहे घपलेबाजी की जाँच करा खरीद फरोख्त तत्काल बंद करायें । 3, किसानों को मिली शासन की तरफ से तीन वर्ष की आर्थिक मदद (राहत राशि) की धरातलीय जाँच करा बचिंत किसानों को तत्काल प्रदान करायें । 4,शिक्षा प्रणाली मैं सुधार एवं लापरवाह व अनुशासन हीन शिक्षकों के खिलाफ ठोस (सेवासमापति )की कार्यवाही कराने हेतू । 5, एंट्री भूमाफिया ट्रासफोरस द्वारा तत्काल कार्यवाही करा विधालय की भूमि पर किये गये अतिक्रमण को हटानें एवं डहाने की कार्यवाही कराने हेतु ।जिसमें जयहिंद यादव ,ब्रजेश तिवारी ,अवधविहारी मिऋ, प्रीतम सिंह ,प्यारे लाल बिशकरमा ,अर्जुन सुल्लेरे, प्रवेधं सिंह , देवकरण सिंह सहित दर्जनों लोगों ने इस आमरण अनशन को पूर्ण समर्थन दिया हैं ।। जनक सिंह परिहार (सामाजिक कार्यकर्ता)पिपरामाफ


  Share Article On :  

             Share  

ग्रामीण क्षेत्र की समस्याओं एवं जूनियर हाईस्कूल विद्यालय की भूमि अतिक्रमण मुक्त कराने हेतु आमरण अनशन

(12, April)

ग्रामीण क्षेत्र की समस्याओं एवं जूनियर हाईस्कूल पिपरामाफ विधालय की जमीन को अतिक्रमण मुक्त करनें के लिए पूर्व मैं कई आवेदन एवं आईजीआरएस पर शिकायतें दर्ज कराईं गई जिसमें फर्जी रिपोर्ट लगा कर समास्या निस्तारण दर्शा दी जाती रही ,8,मार्च 2018 को आमरण अनशन शुरू किया गया जिसपर 9 मार्च को शाम लगभग नो बजे जिलाधिकारी एवं क्षेत्रीय विधायक द्वारा आशवासन दिया गया की आपकी मागों पर तीन दिवस के अंदर जमीन का सीमांकन करते हुए अतिक्रमणकारियों के खिलाफ कार्यवाही करेंगे ,सीमांकन तो किया गया लेकिन जो उस भूमि पर मकान बनें पाये गये उनपर कोई कार्यवाही नहीं हुई जिनके नाम भी सीमांकन करने आई टीम ले गई थी , तीन दिन का समय लेने के बाद एक माह हो गया कोई ठोस कार्यवाही न करनें पर पुनः 12 अप्रैल सुबह 10बजे से आमरण अनशन शुरू कर दिया ।शासन प्रशासन ने मेरे साथ धोका किया है झूठा आशवासन दिया था प्रमुख मागें । 1,विधालय की भूमि अतिक्रमण मुक्त करानें। 2,उर्मिल बांध के डूब क्षेत्र की भूमि पर हो रहे घपलेबाजी की जाँच करा खरीद फरोख्त तत्काल बंद करायें । 3, किसानों को मिली शासन की तरफ से तीन वर्ष की आर्थिक मदद (राहत राशि) की धरातलीय जाँच करा बचिंत किसानों को तत्काल प्रदान करायें । 4,शिक्षा प्रणाली मैं सुधार एवं लापरवाह व अनुशासन हीन शिक्षकों के खिलाफ ठोस (सेवासमापति )की कार्यवाही कराने हेतू । 5, एंट्री भूमाफिया ट्रासफोरस द्वारा तत्काल कार्यवाही करा विधालय की भूमि पर किये गये अतिक्रमण को हटानें एवं डहाने की कार्यवाही कराने हेतु ।जिसमें जयहिंद यादव ,ब्रजेश तिवारी ,अवधविहारी मिऋ, प्रीतम सिंह ,प्यारे लाल बिशकरमा ,अर्जुन सुल्लेरे, प्रवेधं सिंह , देवकरण सिंह सहित दर्जनों लोगों ने इस आमरण अनशन को पूर्ण समर्थन दिया हैं ।। जनक सिंह परिहार (सामाजिक कार्यकर्ता)पिपरामाफ


  Share Article On :  

             Share  

हमीरपुर ...मौदहा.. नगर क्षेत्र में पानी की भीषण समस्या

(11, April)

हमीरपुर स्पेशल न्यूज ~~~~~~~~~~~~ दिखाई देने लगा गर्मियों का असर अभी यह तो सिर्फ ट्रेलर है अभी फिल्म बाकी है पानी के लिए मचा हाहाकार कभी भी महिलाएं हो सकती हैं आंदोलित हमीरपुर ...मौदहा.. नगर क्षेत्र में पानी की भीषण समस्या दिखाई देने लगी है।जलसंस्थान हमेशा देर से जागता है।बुण्देलखण्ड क्षेत्र में गिरते जलस्तर को शायद विभाग नजरअंदाज किये रहा है।और जब समस्या विकराल रूप धारण कर लेती है।तब जाग्रत होता है।इसी कड़ी में आज नगरपालिका अध्यक्ष द्वारा टैंकरों से पानी की सप्लाई कराई गई।लेकिन शायद नगरपालिका अध्यक्ष यह नहीं जानते कि यह तो अभी गर्मियों का ट्रेलर है ।अभी पूरी फिल्म देखना बाकी है।नगर के70%हैण्डपम्प और समरसेबुल खराब होने पर भी नगरपालिका नहीं जागी।अगर समय रहते इनकी मरम्मत कार्य किया गया होता तो शायद आज यह नौबत नहीं आती।हमने समय समय पर जलसंकट के सम्बंध में खबर चलाई है।और जिलाधिकारी महोदय ने मामले को संज्ञान में लिया है।लेकिन नगरपालिका और जलसंस्थान दोनो का उदासीन रवैया ही पेयजल संकट का मुख्य कारण बना हुआ है।अगर ऐसा ही रवैया अपनाया गया तो बहुत जल्द ही नगर में एक महिला आंदोलन देखने को मिल सकता है। बृजेश कुमार ब्यूरो रिपोर्ट हमीरपुर


  Share Article On :  

             Share  

एक अप्रैल से टोल टैक्स में पांच फीसद की बढ़ोत्तरी से उपजा असंतोष अब सड़क पर आ गया है।

(07, April)

कानपुर देहात: संसाधनों व सुविधाओं की अनदेखी कर एक अप्रैल से टोल टैक्स में पांच फीसद की बढ़ोत्तरी से उपजा असंतोष अब सड़क पर आ गया है। रविवार को अकबरपुर के आक्रोशित व्यापारियों, दैनिक यात्रियों व सामाजिक संगठनों ने अकबरपुर कोतवाली क्षेत्र कें बारा के पास स्थित टोल प्लाजा पर पहुंचकर नारेबाजी करने के साथ ही एनएचएआइ का पुतला फूंककर आक्रोश जताया। इसके साथ ही नगर व देहात के वाहनों को टोल मुक्त करने की मांग की सिकंदरा भौती हाइवे पर अकबरपुर कोतवाली क्षेत्र के बारा गावं के पास बने टोल प्लाजा से प्रतिदिन लगभग 22 हजार वाहन निकलते हैं। टोल अफसरों के अनुसार इनमें से करीब 13 हजार वाहन पास वाले हैं। जबकि शेष वाहनों से करीब 32 लाख रुपये प्रतिदिन टोल टैक्स वसूल होता है। बावजूद इसके हाइवे पर प्रकाश व्यवस्था, टूटी सर्विस रोड, दुर्घटनाओं के घायलों के त्वरित उपचार की व्यवस्था , टोल पर शौचालय, कैंटीन आदि सुविधाओं की बराबर अनदेखी हो रही है। इन समस्याओं की अनदेखी के साथ ही 1 अप्रैल से 5 फीसद तक टोल बढ़ाए जाने से लोगों में आक्रोश व्याप्त हो गया है। पिछले रविवार रात से सुविधाओं की अनदेखी कर टोल कर्मियों द्वारा बढ़ी हुई नई दरों के अनुसार टोल की वसूली शुरू करने से लोगों में व्याप्त नाराजगी की खबर जागरण ने 2 अप्रैल को प्रकाशित की थी। एक सप्ताह बाद लोगों का आक्रोश अंतत: खुलकर सड़क पर आ गया। रविवार को उद्योग व्यापार मंडल के जिला मंत्री संतोष ओमर, रामलीला समिति अकबरपुर के अध्यक्ष श्यामू ओमर, भाजपा के दीपू मिश्रा, गोपाल सैनी, विपिन दीक्षित अधिवक्ता, दीपक राणा, सभासद छोटे खां, सनद शुक्ला, श्याम तिवारी, आरिफ राइन, गोविंद, अनूप त्रिपाठी गोरे, राजन भदौरिया, टोनी श्रीवास्तव, बीटू दुबे, पूतीलाल पूर्व सभासद मेराज कुरैशी आदि के साथ एक सैकड़ा लोगों व वाहन स्वामियों तथा चालकों ने बारा टोल प्लाजा पर पहुंचकर नारेबाजी के साथ प्रदर्शन कर बढ़ी दरों को वापस लिए जाने, कानपुर नगर व देहात के वाहनों को टोल प्री करने की मांग की। इसके साथ ही हाइवे प्राधिकरण का पुतला फूंककर आक्रोश जताया। टोल मैनेजर मनोज शर्मा का कहना है कि ट्रांसफार्मर व केबिल चोरी की घटनाओं से मार्ग प्रकाश व्यवस्था बाधित हो रही है। इस बावत कई बार एफआइआर करने के बाद भी चोरों पर लगाम नहीं कसी जा सकी। उन्होने बताया कि करीब पांच सौ वाहन प्रतिदिन टोल से फ्री में निकलते हैं। टोल पर अधिक भार क्षमता वाले वाहनों से दस गुना शुल्क वसूली व टोल टैक्स बढाने का प्रावधान भारत सरकार के स्तर से हुआ है।उन्होने सुविधाओं की अनदेखी के आरोप को नकारते हुए कहा कि जल्द ही खामियों को दुरुस्त कराया जाएगा।


  Share Article On :  

             Share  

खण्ड शिक्षा अधिकारी संजय कुमार की अध्यक्षता में रैली का किया गया आयोजन

(08, April)

मौदहा ब्रेकिंग।।..... खण्ड शिक्षा अधिकारी संजय कुमार की अध्यक्षता में रैली का किया गया आयोजन... हमीरपुर -मौदहा। स्कूल चलो अभियान सत्र 2018 -19 में 6 से 14 वर्ष के सभी वर्ग के छात्र छात्राओं का सरकारी स्कूलों में शत-प्रतिशत प्रवेश कराने हेतु आज दिनांक 07 /04/ 2018 को न्याय पंचायत भुलसी विकास क्षेत्र मौदहा जनपद हमीरपुर में न्याय पंचायत स्तरीय रैली निकाली गई एवम् गोष्ठी का आयोजन किया गया रैली का शुभारंभ उमाशंकर प्रजापति नोडल अधिकारी एवं ग्राम प्रधान श्रीमती चुन्नी देवी ने किया रैली में न्याय पंचायत भुलसी के 26 विद्यालयों के लगभग 500 छात्र/ छात्राओं ने प्रतिभाग किया साथ ही लगभग 40 शिक्षक, 50 अभिभावक एवं क्षेत्र के समस्त संभ्रांत व्यक्तियों ने भी रैली में प्रतिभाग किया इस प्रकार स्कूल चलो अभियान के अंतर्गत सभी 6 से 14 वर्ष के छात्र छात्राओं को सरकारी स्कूलों में प्रवेश के लिए प्रेरित किया गया रैली का आयोजन कमलेश कुमार एनपीआरसी द्वारा किया गया रैली का संचालन बरदानी लाल कन्या प्राथमिक विद्यालय भमई द्वारा किया गया रैली में वरुण कुमार यादव,बरदानी लाल वर्मा, देवीचरण प्रजापति, रशीद उद्दीन, सत्य प्रकाश गुप्ता, हरि किशोर प्रजापति, राहुल, अवधेश कुमार साहू, महेंद्र सिंह ,आदि समस्त अध्यापक उपस्थित रहे बृजेश कुमार ब्यूरो रिपोर्ट


  Share Article On :  

             Share  

मैथा स्थित बैंक आफ बड़ौदा में दो टप्पेबाजों ने युवक को दो लाख रुपए का झांसा देकर कागज की गड्डी थमा तीस हजार रुपये पार कर दिए। पीड़ित युवक ने बैंक के सीसीटीवी फुटेज से टप्पेबाजों की पहचान की है।

(06, April)

शिवली : मैथा स्थित बैंक आफ बड़ौदा में दो टप्पेबाजों ने युवक को दो लाख रुपए का झांसा देकर कागज की गड्डी थमा तीस हजार रुपये पार कर दिए। पीड़ित युवक ने बैंक के सीसीटीवी फुटेज से टप्पेबाजों की पहचान की है। मांडा मैथा गांव निवासी शिव कुमार पाल का पुत्र रवि गुरुवार की दोपहर मैथा बाजार स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा शाखा अपने खाते में तीस हजार रुपये जमा करने आया था। रवि ने बताया कि बैंक के अंदर जमा पर्ची भर रहा था। इस बीच लाल चेक की शर्ट व नीले रंग शर्ट पहने दो युवक आए और भीड़ होने की बता कहकर खाते में दो लाख रुपये जमा कराने को कहा। इसके बाद दोनों टप्पेबाज उसे बैंक के बाहर ले आए और तीस हजार रुपये लेकर दो लाख रुपए बता रुमाल में बंद गड्डी दी। टप्पेबाजों ने नाम व फर्जी खाता संख्या देकर कहा कि दो लाख रुपये में तीस हजार वह अपने खाते और बाकी एक लाख 70 हजार रुपये उनके खाते में जमा कर दे। इसके बाद दोनों टप्पेबाज रफूचक्कर हो गए। जमा पर्ची भरकर काउंटर पर पहुंचा रुमाल खोलने पर कागज की गड्डी मिली। काफी खोजबीन के बाद भी टप्पेबाजों का पता नहीं चला। रवि की सूचना पर बैंक शाखा प्रबंधक ने सीसीटीवी कैमरे की फुटेज से टप्पेबाजों की पहचान कराई। रवि ने दोनों की पहचान करने का दावा किया है। मैथा चौकी प्रभारी विष्णु कुमार मिश्रा ने बताया कि घटना की जानकारी नहीं है, तहरीर मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। रिपोर्टर शादाब अहमद कैमरामैन उमर मिर्ज़ा केवी न्यूज इंडिया


  Share Article On :  

             Share  

We introduce you our KV News Team! Get more information about us here!

About Us

WORLDWIDE KV NEWS

News in other languages

पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज़ शरीफ पर छात्र ने फेंका जूता, गिरफ्तार

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पर एक शख्स द्वारा जूता फेंकने का मामला सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जूता फेंकने वाला शख्स जामिया नीमिया का पूर्व छात्र है और कथित रूप से तहरीक-ए-लब्बैक या रसूल अल्लाह (TLYR) का सदस्य भी है। पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (PML-N) के प्रमुख पर उस वक्त जूता फेंका गया जब वह एक स्कूल में एक कार्यक्रम में भाषण देने वाले थे। बताया जा रहा है कि नवाज शरीफ कार्यक्रम में शामिल लोगों को संबोधित करने जैसे ही मंच पर पहुंचे, ऑडियंस की तरफ से एक जूता उड़ते हुए आया और सीधे उनके सीने पर आ लगा। येजूता ऑडियंस की भीड़ में से एक युवक ने फेंका था। इसके बाद जूता फेंकने वाला शख्स मंच पर चढ़कर नारेबाजी करने लगा। मौके पर मौजूद भीड़ और नवाज़ शरीफ के सुरक्षाकर्मियों ने उस शख्स की पिटाई कर उसे पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस आरोपी को गिरफ्तार कर ले गई उसके बाद ही नवाज शरीफ सभा को संबोधित कर सके।


  Share Article On :  

             Share  

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस International Women's Day.

कोमल है तू कमजोर नहीं तू, शक्ति का नाम ही नारी है। 2016 के अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का विषय है "इसे करना ही होगा"। इतिहास ~~~~~~ 1910 के अगस्त महीने में, अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के सालाना उत्सव को मनाने के लिये कोपेहेगन में द्वितीय अंतरराष्ट्रीय समाजवादी की एक मीटिंग (अंतरराष्ट्रीय महिला सम्मेलन के द्वारा आयोजित) रखी गया थी। अंतत: अमेरिकन समाजवादी और जर्मन समाजवादी लुईस जिएत्ज़ की सहायता के द्वारा अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का वार्षिक उत्सव की स्थापना हुई। हालाँकि, उस मीटिंग में कोई एक तारीख तय नही हुई थी। सभी महिलाओं के लिये समानता के अधिकार को बढ़ावा देने के लिये इस कार्यक्रम को मनाने की घोषणा हुई। इसे पहली बार 19 मार्च 1911 में ऑस्ट्रीया, जर्मनी, डेनमार्क और स्वीट्ज़रलैंड के लाखों लोगों द्वारा मनाया गया था। विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम जैसे प्रदर्शनी, महिला परेड, बैनर आदि रखे गये थे। महिलाओं के द्वारा वोटिंग की माँग, सार्वजनिक कार्यालय पर स्वामित्व और रोजगार में लैंगिक भेद-भाव को समाप्त करना जैसे मुद्दे सामने रखे गये थे। हर वर्ष फरवरी के अंतिम रविवार को राष्ट्रीय महिला दिवस के रुप में अमेरिका में इसे मनाया जाता था। फरवरी महीने के अंतिम रविवार को 1913 में रशियन (रुस की) महिलाओं के द्वारा इसे पहली बार मनाया गया था। 1975 में सिडनी में महिलाओं (ऑस्ट्रेलियन बिल्डर्स लेबरर्स फेडरेशन) के द्वारा एक रैली रखी गयी थी। 1914 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव 8 मार्च को रखा गया था। तब से, 8 मार्च को सभी जगह इसे मनाने की शुरुआत हुई। वोट करने के महिला अधिकार के लिये जर्मनी में 1914 का कार्यक्रम खासतौर से रखा गया था। वर्ष 1917 के उत्सव को मनाने के दौरान सेंट पीटर्सबर्ग की महिलाओं के द्वारा “रोटी और शांति”, रशियन खाद्य कमी के साथ ही प्रथम विश्व युद्ध के अंत की माँग रखी। धीरे-धीरे ये कई कम्युनिस्ट और समाजवादी देशों में मनाना शुरु हुआ जैसे 1922 में चीन में, 1936 से स्पैनिश कम्युनिस्ट आदि में। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस कैसे मनाया जाता है ~~ अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस एक खास कार्यक्रम है जिसे लोगों के साथ ही व्यापार, राजनीतिक, समुदायिक, शिक्षण संस्थानों, आविष्कारक, टीवी व्यक्तित्व आदि महिला नेतृत्व के द्वारा 8 मार्च को पूरे विश्व भर में मनाया जाता है। अन्य महिला अधिकारों को बढ़ावा देने वाली क्रिया-कलाप सहित नाश्ता, रात का भोजन, महिलाओं के मुद्दे, लंच, प्रतियोगी गतिविधि, भाषण, प्रस्तुतिकरण, चर्चा, बैनर, सम्मेलन, महिला परेड तथा सेमिनार जैसे विभिन्न प्रकार कार्यक्रम के आयोजन के द्वारा इसे मनाया जाता है। इसे पूरे विश्व भर में उनके अधिकार, योगदान, शिक्षा की महत्ता, आजीविका आदि के मौके के लिये महिलाओं के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिये मनाया जाता है। महिला शिक्षिका को उनके विद्यार्थियों द्वारा, अपने बच्चों के द्वारा माता-पिता को, बहनों को भाईयों के द्वारा, पुत्री को अपने पिता के द्वारा, उपहार दिया जाता है। ज्यादातर व्ययसायिक संस्थाएँ, सरकारी और गैर-सरकारी कार्यालय, शिक्षण संस्थान, इस दिन बंद रहते हैं। आमतौर पर इस उत्सव को मनाने के दौरान लोग बैंगनी रंग का रिबन पहने रहते हैं। भारत में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव~~~~ महिला अधिकारों के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिये 8 मार्च को पूरे उत्साह और जूनुन के साथ भारतीय लोगों के द्वारा पूरे भारतवर्ष में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव मनाया जाता है। समाज में महिलाओं के अधिकार और उनकी स्थिति के बारे में वास्तविक संदेश को फैलाने में ये उत्सव एक बड़ी भूमिका निभाता है। उनके सामाजिक मुद्दे को सुलझाने के द्वारा महिलाओं के रहन-सहन की स्थिति को प्रचारित करता है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस का थीम~~~~~ अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस एक खास थीम का इस्तेमाल कर हर वर्ष मनाया जाता है। नीचे कुछ वार्षिक आधार दिये गये थीम हैं:~~~ 1975 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस को संयुक्त राष्ट्र ने मान्यता दी”। 1996 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “भूतकाल का जश्न, भविष्य की योजना”। 1997 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “महिला और शांति की मेज”। 1998 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “महिला और मानव अधिकार”। 1999 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “महिलाओं के खिलाफ हिंसा मुक्त विश्व”। 2000 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “शांति के लिये महिला संसक्ति”। 2001 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “महिला और शांति: विरोध का प्रबंधन करती महिला”। 2002 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “आज की अफगानी महिला: वास्तविकता और मौके”। 2003 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “लैंगिक समानता और शताब्दी विकास लक्ष्य”। 2004 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “महिला और एचआईवी/एड्स”। 2005 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “2005 के बाद लैंगिक समानता; एक ज्यादा सुरक्षित भविष्य का निर्माण कर रहा है”। 2006 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “निर्णय निर्माण में महिला”। 2007 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “लड़कियों और महिलाओं के खिलाफ हिंसा के लिये दंडाभाव का अंत ” 2008 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “महिलाओं और लड़कियों में निवेश”। 2009 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ हिंसा को खत्म करने के लिये महिला और पुरुष का एकजुट होना”। 2010 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “बराबर का अधिकार, बराबर के मौके: सभी के लिये प्रगति”। 2011 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “शिक्षा, प्रशिक्षण और विज्ञान और तकनीक तक बराबरी की पहुँच: महिलाओं के लिये अच्छे काम के लिये रास्ता”। 2012 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “ग्रामीण महिलाओं का सशक्तिकरण, गरीबी और भूखमरी का अंत”। 2013 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “वादा, वादा होता है: महिलाओं के खिलाफ हिंसा खत्म करने का अंत आ गया है”। 2014 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम था “वादा, वादा होता है: महिलाओं के समानता सभी के लिये प्रगति है”। 2015 का अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का थीम है “महिला सशक्तिकरण- सशक्तिकरण इंसानियत: इसकी तस्वीर बनाओ! (यूएन के द्वारा),महिला सशक्तिकरण पर पुनर्विचार और 2015 में लैंगिक समानता और उससे आगे” (यूनेस्को के द्वारा) और “तोड़ने के द्वारा” (मैनचेस्टर शहर परिषद के द्वार)। 2016 के अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस उत्सव का विषय है "इसे करना ही होगा"। नहीं हूँ मैं माँस-मज्जा का एक पिंड जिसे जब तुम चाहो जला दोगे नहीं हूँ मैं एक शरीर मात्र जिसे जब तुम चाहो भोग लोगे नहीं हूँ मैं शादी के नाम पर अर्पित कन्या जिसे जब तुम चाहो छोड़ दोगे नहीं हूँ मैं कपड़ों में लिपटी एक चीज जिसे जब तुम चाहो तमाशा बना दोगे। मैं एक भाव हूँ, विचार हूँ मेरा एक स्वतंत्र अस्तित्व है ठीक वैसे ही, जैसे तुम्हारा अगर तुम्हारे बिना दुनिया नहीं है तो मेरे बिना भी यह दुनिया नहीं है। हमारे शास्त्रों में कहा गया है जहां नारियों की पूजा होती है वहां सुख-शांति, समृद्धि का वास होता है। वहीं हिन्दी के मूर्धन्य रचनाकार मैथिलीशरण गुप्त ने कहा है - 'अबला जीवन तेरी तो बस यही कहानी, आंचल में है दूध नयनों में पानी।' शास्त्रों में तो नारी को ऊंचा स्थान मिला है, लेकिन व्यवहार में पुरुषों की ही सत्ता समाज में कायम रही है और नारी को तिरस्कृत नजरों से देखा गया है। आज नारियों पर जितने घिनौने अत्याचार हो रहे हैं वह किसी से छिपा नहीं है, रावण काल में भी इतना अत्याचार व दुष्कर्म नहीं हुआ होगा। समाचार पत्रों व चैनलों में नारी उत्पीड़न और अत्याचार के वीभत्स समाचार भरे पड़े रहते है।नारी शक्ति का सकारात्मक पहलू यह है कि जहां नारियों ने विकास के झंडे गाड़े हैं, विभिन्न क्षेत्रों में सबला के रुप में प्रतिस्थापित हुई है, वहीं दूसरा पहलू अत्यंत डरावना भी है। नारियों पर अत्याचार, हत्या, मारपीट, बलात्कार, शारीरिक व मानसिक प्रताड़ना, वेश्यावृत्ति दिनोंदिन बढ़ते ही जा रहे हैं। इसका कारण यह भी हो सकता है कि अब नारी सशक्त होकर सामने आई है, चुप नहीं बैठी है जो पुरुष प्रधान समाज को बड़ी चुनौती लग रही है। उसे अपने अस्तित्व पर संकट के बादल मंडराते नजर आते हैं।आज अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर हमें गम्भीरता से विचार करना है कि इस नाजुक मोड़ पर जब नारी विकास की ओर निरंतर कदम बढ़ा रही है, हम सबको उसकी सहायता करनी है। हमारा संविधान और कानून सभी इसके लिए प्रतिबद्ध है। आवश्यकता है सामाजिक स्तर पर विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों की सोच बदलने के बड़े प्रयास करने की। आइये इस विशेष दिवस पर प्रण लें नारी के सम्मान का, उनके विकास में सहयोग का। क्योंकि नारी से ही संसार समृद्ध, सुंदर और चलायमान है. "नारी से जग है,नारी से सब है।... कभी न भूले हमारा अस्तित्व नारी से है... मां,बहन,पत्नी और भी अनेक रूपों में नारी महान है.नारी का सम्मान करें।" कोमल है तू कमजोर नहीं तू, शक्ति का नाम ही नारी है जग को जीवन देने वाली, मौत भी तुझसे हारी है सतियों के नाम पे तुझे जलाया, मीरा के नाम पे जहर पिलाया, सीता जैसे अग्नि परीक्षा जग में अब तक जारी है कोमल है कमजोर नहीं तू शक्ति का नाम नारी है इल्म हुनर में .... दिल दिमाग में किसी बात में कम तो नहीं पुरुषो वाले ... सारे ही अधिकारों की अधिकारी है, कोमल है कमजोर नहीं तू शक्ति का नाम नारी है जग को जीवन देने वाली मौत भी तुझसे हारी है... बहुत हो चुका ..... अब मत ना सहना तुझे इतिहास बदलना है नारी को कोई कह ना पाए ... अबला है, बेचारी है कोमल है कमजोर नहीं तू शक्ति का नाम नारी है जग को जीवन देने वाली, मौत भी तुझसे हारी है, कोमल है तू कमजोर नहीं तू शक्ति का नाम ही नारी है जग को जीवन देने वाली मौत भी तुझसे हारी है। समस्त नारी को सम्मान पूर्वक महिला दिवस की शुभकामनाओं के साथ ।


  Share Article On :  

             Share  

रिश्ते तार-तार! 15 साल तक बाप ने किया बेटी से रेप, बनाया दो बच्चों की मां

अमेरिका से एक रिश्तों को तार-तार कर देने वाली खबर सामने आई है। आरोपी पिता ने अपनी बेटी से 15 साल तक रेप किया और उसे दो बच्चों की मां बना दिया। पुलिस ने मामले शिकायत दर्ज किया जिसमें सामने आया कि आरोपी ने अब तक 23 बार बलात्कार किया, 18 बार यौन हिंसा की। पुलिस ने बताया कि आरोपी अमेरिका के सिसिनाती इलाके का रहने वाला है और पिछले 15 साल हवस का शिकार बना रहा था। अब तब उसने बेटी से दो बच्चे भी पैदा कर दिए हैं। बताया जा रहा जब उसने पहली बार बेटी को हवस का शिकार बनाया तब वह 10 साल की थी। और 25 साल की उम्र में उसे कलयुगी बाप के चंगुल से मुक्त कराया गया। मां भी थी शामिल- पुलिस ने बताया कि इस मामले में सिर्फ आरोपी दोषी नहीं है बल्कि दो बार उसकी पत्नी ने भी इस कुकृत्य में मिलीभगत की और अपराध को अंजाम देने दिया गया। पीडि़ता के दो बच्चे हैं जिनकी उम्र 7 और 2 साल है। मामला अदालत में है जिसकी सुनवाई शुक्रवार होगी। इस आरोपी माता पिता को अदालत से सख्त सजा मिल सकती है।


  Share Article On :  

             Share  

महिला दिवस 2018: इस साल यह है महिला दिवस की थीम

महिला दिवस यानी महिलाओं की आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक उपलब्धियों का उत्सव मनाने का दिन। इस साल यह 8 मार्च गुरुवार को मनाया जा रहा है। हर साल अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के दिन के एक थीम निश्चित की जाती है। इस साल इसका थीम #PressForProgress है। अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य महिलाओं की समानता के लिए आवाज उठाना है। इस दिन उन महिलाओं के कार्यों को याद किया जाता है जो महिलाओं के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान देती हैं। इस थीम की घोषणा होते ही सोशल मीडिया पर #PressforProgress ट्रेंड करने लगा है। इस थीम का मुख्य उद्देश्य महिलाओं को उनके अधिकारों के लिए प्रोत्‍साहित करना है।


  Share Article On :  

             Share  

बाल विवाह रोकथाम में भारत दक्षिण एशिया में सबसे आगे

भारत में बाल विवाह पर रोक लगने के बाद इसका असर दक्ष‍िण एशिया में देखने को मिल रहा है। असल में जबसे भारत में बाल विवाह पर अंकुश लगा है, तबसे दक्ष‍िण एशिया में भी बाल विवाह में गिरावट आई है। पिछले दस साल में दक्ष‍िण एशिया में बाल विवाह की दर 50 फीसदी से घटकर 30 फीसदी पर हो गई है, तो वहीं भारत में बाल विवाह की दर 47 फीसदी से घटकर 27 फीसदी रह गई है। एक मीडिया रिपोर्ट की माने तो, वैश्विक स्तर पर हर पांच में से एक लड़की की शादी 18 साल से कम उम्र में हो जाती है। हालांकि यूनिसेफ की रिपोर्ट में जहां ये अच्छी बात बताई है कि दक्ष‍िण एशिया में बाल विवाह कम हो गया है, तो वहीं, ये परेशानी की बात भी बताई है कि अब भी कई जिलों में बाल विवाह की दर बहुत ज्यादा है। अगर इस तरह की आबादी की बात करें, तो ये आदिवासी समुदायों और अनुसूचित जाति जैसी कुछ विशेष जातियों में है। इनमें अभी भी बाल विवाह किया जाता है। रिपोर्ट के अनुसार बिहार, पश्चिम बंगाल, राजस्थान में बाल विवाह की दर सबसे ज्यादा 40 फीसदी तक है, जबकि तमिलनाडु और केरल में यह 20 फीसदी से कम है। रिपोर्ट की मानें तो, भारत के अलावा इथियोपिया में भी बाल विवाह की दर में 30 फीसदी की गिरावट आई है। भारत में बाल विवाह की दर इसलिए कम हुई है क्योंकि महिलाएं ज्यादा शिक्ष‍ित हो रही हैं और उनकी आकांक्षाएं बदल रही हैं।


  Share Article On :  

             Share  

पाकिस्‍तान का दावा- सेना ने भारत के खुफिया ड्रोन को गोली मारी, ट्विटर पर उड़ा मजाक

पाकिस्तानी सेना ने दावा किया है कि उन्होंने भारत के एक जासूसी ड्रोन को मार गिराया है, जो कश्मीर में लाइन ऑफ कंट्रोल के नजदीक चीरीकोट सेक्टर में पाकिस्तानी हवाई सीमा के भीतर उड़ रहा था। बयान के अनुसार, पाकिस्तानी सेना ने ड्रोन का मलबा बरामद कर लिया है। पाकिस्तानी सेना ने दावा किया कि पिछले एक साल में यह चौथा ड्रोन है, जिसे पाकिस्तानी सेना ने मार गिराया है। इससे पहले पिछले साल अक्टूबर माह में भी पाकिस्तानी सेना ने दावा किया था कि उन्होंने एलओसी के नजदीक राखचिकरी सेक्टर में भारतीय ड्रोन को तबाह कर दिया था। हालांकि, भारतीय सेना इस तरह की घटनाओं से इनकार करती रही है। वहीं, रेडियो पाकिस्तान ने भी कथित तौर पर पाकिस्तानी सेना द्वारा मार गिराए गए ड्रोन की तस्वीर के साथ ट्वीट किया है। लेकिन यूजर्स ने इसे लेकर पाकिस्तान का मजाक उड़ाना शुरू कर दिया है। एक यूजर ने रेडियो पाकिस्तान के ट्वीट के जवाब में लिखा है कि वेडिंग मूवीज के लिए हम इस तरह के ड्रोन का इस्तेमाल करते हैं। वहीं, एक अन्य यूजर ने लिखा कि यह ड्रोन भूखी सेना को रोटी और बिरयानी डिलिवर करने गया था। अन्य यूजर ने लिखा कि ड्रोन की तस्वीर आर्काइव से ली गई है, पाकिस्तानी क्रेजी हैं। जियो पाकिस्तान की खबर के अनुसार, इस तरह के ड्रोन्स का इस्तेमाल भारतीय सेना पाकिस्तानी सेना की पोजिशन का पता लगाने के लिए करती है। बता दें कि पाकिस्तान कई बार भारत पर ड्रोन के जरिए जासूसी का आरोप लगा चुका है, लेकिन भारत ने हमेशा इस तरह के आरोपों से इनकार किया है। Pakistan Army troops shot down an Indian spy drone in Chirikot Sector http://www.radio.gov.pk/06-03-2018/pakistan-army-shoots-down-indian-spy-drone-in-chirikot-sector …


  Share Article On :  

             Share  

जानिए 8 मार्च को क्यों मनाते हैं अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस गुरुवार को मनाया जाएगा। सबसे पहले 1909 में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया था। इसे संयुक्त राष्ट्र संघ ने 1975 से मनाना शुरू किया। विश्व के विभिन्न क्षेत्रों में महिलाओं के प्रति सम्मान, प्रशंसा और प्यार प्रकट करते हुए इस दिन को महिलाओं के आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक उपलब्धियों के उत्सव के तौर पर मनाया जाता है। आज महिलाएं हर क्षेत्र में आगे हैं लेकिन अतीत में ऐसा नहीं था। जिस प्रकार की आजादी आज हम महिलाओं को प्राप्त हुए देखते हैं, वे पहले नहीं थीं। न वे पढ़ पाती हैं न नौकरी कर पाती थीं और न ही उन्हें वोट डालने की आजादी थी। कैसे हुई शुरुआत 1908 में 15000 महिलाओं ने न्यूयॉर्क सिटी में वोटिंग अधिकारों की मांग के लिए, काम के घंटे कम करने के लिए और बेहतर वेतन मिलने के लिए मार्च निकाला। एक साल बाद अमेरिका की सोशलिस्ट पार्टी की घोषणा के अनुसार 1909 में यूनाइटेड स्टेट्स में पहला राष्ट्रीय महिला दिवस 28 फरवरी को मनाया गया। 1910 में clara zetkin (जर्मनी की सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी की महिला ऑफिस की लीडर) नामक महिला ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने का विचार रखा, उन्होंने सुझाव दिया की महिलाओ को अपनी मांगो को आगे बढ़ने के लिए हर देश में अंतराष्ट्रीय महिला दिवस मनाना चाहिए। एक कांफ्रेंस में 17 देशो की 100 से ज्यादा महिलाओ ने इस सुझाव पर सहमती जताई और अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की स्थापना हुई, इस समय इसका प्रमुख उद्देश्य महिलाओं को वोट का अधिकार दिलवाना था। 19 मार्च 1911 को पहली बार आस्ट्रिया डेनमार्क, जर्मनी और स्विट्ज़रलैंड में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया। 1913 में इसे ट्रांसफर कर 8 मार्च कर दिया गया और तब से इसे हर साल इसी दिन मनाया जाता है।


  Share Article On :  

             Share  

Rethinking

the KV News Experience


  Share Article On :  

             Share  

हल्द्वानी में बनी दुनिया की सबसे छोटी पेंसिल, वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल

(05, March)

उत्तराखंड के हल्द्वानी में दुनिया की सबसे छोटी पेंसिल बनाई गई है। लिहाजा इसे बनाने वाले प्रकाश चंद्र उपाध्याय का नाम वर्ल्ड रेकॉर्ड में शामिल हो गया है। दुनिया की इस सबसे छोटी पेंसिल की लंबाई 5 एमएम और चौड़ाई 0.5 एमएम है। पेंसिल लकड़ी और एचबी से बनी है। प्रकाश चंद्र उपाध्याय यहां के डॉ. सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज में बतौर आर्टिस्ट कार्यरत हैं। 45 साल प्रकाश ने बताया कि उन्हें पेसिंल बनाने में केवल 3 से 4 दिन लगे। उन्होंने पेंसिल बनाने के लिए माचिस की तीली का इस्तेमाल किया।इससे पहले भी वर्ल्ड रेकॉर्ड में दर्ज करवा चुके हैं नाम उन्होंने बताया कि 2015 में उन्होंने दुनिया की सबसे छोटी किताब बनाई थी तब उनका नाम पहली बार वर्ल्ड रिकॉर्ड में आया था। उसके बाद उन्होंने दुनिया की सबसे छोटी हस्तनिर्मित धार्मिक पुस्तक बनाई थी। यह पुस्तक हनुमान चालीसा थी।


  Share Article On :  

             Share  

JNU में हिंदी से एमफिल/पीएचडी करने की लिखित परीक्षा में सिर्फ 4 हुए पास, 749 ने दिया था एग्‍जाम

(04, March)

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में नए शैक्षिक सत्र के लिए प्रवेश परीक्षाओं का परिणाम आ गया है। हिन्दी विभाग में 749 छात्रों में से सिर्फ चार छात्रों को साक्षात्कार के लिए चयनित किया गया है। विभाग में एमफिल/पीएचडी कार्यक्रम में 12 सीटें हैं। अन्य केंद्रों का भी यही हाल है और कम छात्रों को ही साक्षात्कार के लिए बुलाया गया है। छात्रों और शिक्षकों ने आरोप लगाया है कि वंचित तबके से आने वाले छात्रों को अतिरिक्त अंक नहीं दिए जा रहे हैं। सेंटर फॉर इंडियन लैंग्विज के प्रमुख गोंबिंद प्रसाद ने कहा कि आरक्षण की नीति को खत्म कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि हिन्दी विभाग में 12 रिक्त सीटें हैं। परीक्षा देने वाले 749 में से सिर्फ चार का ही चयन साक्षात्कार के लिए किया गया है। इस बात का भी कोई भरोसा नहीं है कि लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद भी वे साक्षात्कार के चरण में सफल हो जाएंगे। अंतिम चयन के लिए साक्षात्कार की शत-प्रतिशत अहमियत है। यूजीसी के 2016 की अधिसूचना में साक्षात्कार देने के लिए लिखित परीक्षा में 50 प्रतिशत अंक हासिल करने को जरूरी कर दिया गया था। इसीके आधार पर अंतिम चयन किया जाएगा। इससे पहले जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय लिखित परीक्षा को 70 प्रतिशत और साक्षात्कार को 30 फीसदी महत्ता देता था और पिछड़ा वर्ग या दूरदराज के इलाकों से आने वाले छात्रों को ‘वंचित अंक’ दिए जाते थे। जेएनयू के रजिस्ट्रार प्रमोद कुमार और पूछे गए सवालों के जवाब नहीं दिए।जेएनयू छात्र संघ ने साक्षात्कार के लिए बुलाए गए छात्रों की संख्या को बेहद कम बताया है। छात्र संघ का आरोप है कि प्रशासन चयनित छात्रों के नाम की सूची को नोटिस बोर्ड पर नहीं लगा रहा है। जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्षा गीता कुमारी का कहना है कि चयनित छात्रों की लिस्ट को पब्लिक डोमेन में नहीं लाया जा रहा है। जेएनयू में ऐसा पहले नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि साक्षात्कार के लिए जितने छात्रों को बुलाया गया है उनकी संख्या आश्चर्यजनक रूप से कम है।


  Share Article On :  

             Share  

नीरव मोदी का अपने कर्मचारियों को संदेश- ऑफिस न आएं और रहें खामोश

(21, February)

पंजाब नेशनल बैंक का 11400 करोड़ हजम करने वाले नीरव मोदी ने एक तरफ जहां बैंक को साफ कह दिया है कि वो बकाया चुकाने की स्थिति में नहीं हैं. वहीं दूसरी तरफ नीरव मोदी ने अब अपने कर्मचारियों को अलर्ट किया है. इस संबंध में नीरव मोदी ने अपने कर्मचारियों को मेल लिखा है और उन्हें काम पर न आने के लिए कहा है. नीरव मोदी की फर्म से जुड़े कर्मचारियों को मंगलवार को एक मेल मिला है. इसमें कर्मचारियों से दफ्तर न आने की बात कही गई है. साथ ही ये भी ताकीद की गई है कि वो किसी से कोई बात न करें. वेतन मिलने का आश्वासन नीरव मोदी ने अपने कर्मचारियों से वेतन को लेकर चिंतित न होने का भी भरोसा दिया है. नीरव मोदी ने लिखा है कि सभी की सैलरी दी जाएगी, इसलिए किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं है. दरअसल, नीरव मोदी के ज्वैलरी शोरूम समेत तमाम ठिकानों पर ईडी और सीबीआई की छापेमारी जारी है. साथ ही नीरव मोदी की संपत्ति और ज्वैलरी भी जब्त की जा रही है. यही वजह है कि नीरव मोदी ने कर्मचारियों को ठिकानों पर न आने की ताकीद की है. बैंक को लिखा पत्र इससे पहले सोमवार को नीरव मोदी का पंजाब नेशनल बैंक को लिखा गया पत्र सामने आया था. ये पत्र 15-16 जनवरी को लिखा गया है जिसमें नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक को लोन का पैसा चुकाने से साफ मना कर दिया है. नीरव मोदी ने पीएनबी को लिखी इस चिट्ठी में कहा है कि उनके ऊपर बकाया रकम बढ़ाकर बताई गई है. चिट्ठी में ये भी लिखा गया है कि बकाया रकम 5000 करोड़ से कम है. उन्होंने साफ लिखा कि अब वो इसे चुकाने की स्थिति में नहीं हैं.


  Share Article On :  

             Share  

Sport News

Watch the latest sport news

वीरेंद्र सहवाग नहीं बल्कि भारतीय क्रिकेट इतिहास में इस खिलाड़ी ने जड़ा था पहला तिहरा शतक

(11, March)

इस दाएं हाथ के बल्लेबाज ने 30 टेस्ट मैचों की 52 पारियों में 6 बार नाबाद रहते हुए 7 शतक और 9 अर्धशतक की मदद से 2192 रन बनाए थे। इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर 164 (नाबाद) रहा। 11 मार्च 1915 को सांगली (महाराष्ट्र) में जन्मे विजय सैमुएल हजारे आजादी के बाद भारतीय क्रिकेट टीम के पहले कप्तान रहे। अपने नेतृत्व में टीम इंडिया को अंग्रेजों के खिलाफ पहली जीत दिलाने वाले हजारे ने भारत के लिए 14 टेस्ट मैचों में कप्तानी की थी। भले ही अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर वीरेंद्र सहवाग ने भारत की ओर से पहला तिहरा शतक जड़ा हो लेकिन भारतीय क्रिकेट इतिहास में प्रथम श्रेणी में पहली ट्रिपल सेंचुरी लगाने वाले क्रिकेटर थे विजय हजारे। विजय हजारे ने 21 जनवरी 1940 को पूना क्लब ग्राउंड पर महाराष्ट्र की ओर से खेलते हुए बड़ौदा के खिलाफ तिहरा शतक लगाया था। इस दौरान उन्होंने नाबाद 316 रन की पारी खेली। वहीं वीरेंद्र सहवाग ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मुल्तान में वीरेंद्र सहवाग ने पाकिस्तान के खिलाफ 28 मार्च 2004 को 309 रन की पारी खेली था। विजय हजारे लगातार तीन टेस्ट मैचों में सेंचुरी जड़ने वाले पहले भारतीय थे। क्रिकेट इतिहास के इतना ही नहीं वह प्रथम श्रेणी में 50 शतक जड़ने वाले पहले भारतीय भी थे। उन्होंने फर्स्ट क्लास में 1947 के रणजी फाइनल में गुल मोहम्मद के साथ 577 रन की साझेदारी की थी। टेस्ट मैच में पहले 1000 रन बनाने वाले हजारे पद्म श्री पुरस्कार से नवाजे जाने वाले पहले भारतीय क्रिकेटर हैं। सन् 1943 में हजारे अपने करियर के शिखर पर थे। उसी साल उन्होंने 264, 81, 97, 248, 59, 309, 101 और 223 जैसे विशाल रनों की पारी खेली। इस दाएं हाथ के बल्लेबाज ने 30 टेस्ट मैचों की 52 पारियों में 6 बार नाबाद रहते हुए 7 शतक और 9 अर्धशतक की मदद से 2192 रन बनाए थे। इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर 164 (नाबाद) रहा। वहीं 238 प्रथम श्रेणी मैचों की 367 पारियों में विजय हजारे ने 46 बार नॉट आउट रहते हुए 18740 रन बनाए थे। इस दौरान उन्होंने 60 शतक और 73 अर्धशतक जड़े। विजय हजारे जितने अच्छे बल्लेबाज थे उतने ही शानदार गेंदबाज भी। उन्होंने टेस्ट में 30, जबकि फर्स्ट क्लास मैचों में 595 शिकार किए थे। उनकी मृत्यु 18 दिसंबर 2004 को बड़ौदा में हुई। इनके नाम से आज विजय हजारे ट्रॉफी खेली जाती है।


  Share Article On :  

             Share  

हसीन जहां ने की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस, बोलीं- अगर मोबाइल पकड़ा नहीं होता तो अब तक यूपी भाग गया होता मोहम्‍मद शमी

(11, March)

पिछले कुछ दिनों से लगातार हसीन जहां शमी पर नाजायज रिश्ते, मारपीट, घरेलू हिंसा, हत्या की कोशिश, मैच फिक्सिंग जैसे कई गंभीर आरोप लगा रही हैं। रविवार को भी हसीन जहां ने अपनी बातों को एक बार फिर मीडिया के सामने रखा। हसीन जहां ने कहा कि शमी सवालों के जवाब देने की वजह उन्हें घुमाने का काम कर रहे हैं। भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी की वाइफ हसीन जहां ने रविवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर एक बार फिर अपने आरोपों को सही बताया है। पिछले कुछ दिनों से लगातार हसीन जहां शमी पर नाजायज रिश्ते, मारपीट, घरेलू हिंसा, हत्या की कोशिश, मैच फिक्सिंग जैसे कई गंभीर आरोप लगा रही हैं। रविवार को भी हसीन जहां ने अपनी बातों को एक बार फिर मीडिया के सामने रखा। हसीन जहां ने कहा कि शमी सवालों के जवाब देने की वजह उन्हें घुमाने का काम कर रहे हैं। जहां ने कहा, ”शमी डर की वजह से उनसे अच्छा बर्ताव कर रहे थे। अगर उनके पेश किए गए सबूतों को सख्ती से जांच किए जाए तो सारी सच्चाई सामने आ जाएगी। शमी पकड़े जाने की वजह से सुधरने का नाटक कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ”सबूतों की जांच हो, शमी अभी तक किसी भी आरोप का स्पष्ट रूप से जवाब देने में असफल रहे हैं। शमी का पूरा परिवार उसके साथ है, अगर अब मैं सुलह करूंगी तो मैं गुनहगार हो जाऊंगी। मुझे इस मामले की पूरी जांच चाहिए”। जहां ने कहा, ”अगर शमी का मोबाइल उनके हाथों में नहीं आता तो वह अब तक यूपी भाग गए होते”। जहां के मुताबिक वो शमी को पिछले चार सालों से समझाने का काम कर रही हैं, लेकिन वह बस उनके सामने अच्छे बने रहने का नाटक कर रहे थे। जहां ने कहा, ”शमी अगर निर्दोष है तो बात को गोल-गोल घुमाने की जगह वह सबूत पेश करें। जितने भी लोगों के बारे में मीडिया के सामने जहां ने बात की है, शमी उनकी किसी भी बात पर खुलकर बात नहीं कर पा रहे हैं”। बता दें कि शमी ने अपने दिए इंटरव्यू में कहा था कि वह अपने परिवार को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने अपने ऊपर लगाए गए सभी आरोपों को मानने से इनकार करते हुए परिवार बचाने की बात की। शमी ने कहा था कि उनकी पत्नी को कोई भड़का रहा, इस वजह से वह ऐसा कर रही हैं। वहीं परिवार बचाने की बात पर जहां ने कहा कि शमी ने उनसे इस बारे में कभी बात नहीं की। अगर वो ऐसा कुछ चाहते हैं तो इस बारे में सोचा जा सकता है, लेकिन हमारे बीच अब कुछ ठीक नहीं हो सकता, बात बहुत आगे निकल चुकी है।


  Share Article On :  

             Share  

टीम इंडिया के गेंदबाज रहे परविंदर अवाना ने गुपचुप रचाई शादी, दिल्ली पुलिस में SI हैं पत्नी

(07, March)

परविंदर अवाना ने साल 2012 में इंगलैंड के खिलाफ टी-20 मैचों से नेशनल क्रिकेट टीम में पदार्पण किया था। हालांकि उन्हें टीम में ज्यादा मौके नहीं मिल पाए। टीम इंडिया के लिए इंटरनैशनल मैच खेल चुके तेज गेंदबाज परविंदर अवाना मंगलवार को शादी के परिणय सूत्र में बंध गए। उन्होंने दिल्ली पुलिस में सब इंस्पेक्टर संगीता कसाना के साथ सात फेरे लिये। मूल रूप से नोएडा के रहने वाले परविंदर अवाना की बारात मंगलवार की शाम गाजियाबाद को भोपुरा पहुंची। शादी में घर-परिवार वालों के साथ ही बेहद करीबी लोग ही शामिल हुए। बताया जा रहा है कि शनिवार 10 मार्च को वो ग्रेटर नोएडा में रिसेप्शन देंगे। रिसेप्शन पार्टी में कई वीआईपी लोगों और क्रिकेटर्स के पहुंचने की संभावना है। परविंदर अवाना की पत्नी संगीता कसाना दिल्ली पुलिस में सब इंस्पेक्टर हैं। संगीता की तैनाती इस वक्त दिल्ली के सीमापुरी थाने में है। परविंदर परिवार के साथ ग्रेटर नोएडा में ही रहते हैं। मीडियम पेसर परविंदर अवाना की फिलहाल टीम में वापसी नामुमकिन के बराबर है। बता दें कि परविंदर अवाना ने साल 2012 में इंगलैंड के खिलाफ टी-20 मैचों से नेशनल क्रिकेट टीम में पदार्पण किया था। हालांकि उन्हें टीम में ज्यादा मौके नहीं मिल पाए। परविंदर आईपीएल में भी खेलते हैं। आईपीएल में वो किंग्स इलेवन पंजाब के लिए खेलते रहे हैं। लेकिन आईपीएल में भी उनकी पारी ज्यादा लंबी नहीं रही है। अवाना ने सिर्फ साल 2012, 2013 और 2014 के आईपीएल सीज़न ही खेल पाए हैं। परविंदर ने अपना फर्स्ट क्लास 2007 में शुरू किया। तब वह हिचामल प्रदेश के लिए खेलते थे। उन्होंने फर्स्ट क्लास के कुल 62 मैच खेले हैं। जिसमें उन्होंने 191 विकेट लिए। पिछले साल उनके साथ अज्ञात लोगों द्वारा मारपीट की खबर भी सामने आई थी। तब पुलिस ने बताया था कि परविंदर जब हरिद्वार से नोएडा लोट रहे थे तब रास्ते में 5 अज्ञात हमलावरों ने उनपर हमला बोल दिया था। ये हमला किस कारण हुआ था इस बात की जानकारी नहीं मिल पाई थी।


  Share Article On :  

             Share  

IPL सीजन 11ः इस टीम के गेंदबाजी कोच होंगे वेंकटेश प्रसाद

(04, March)

मोहाली। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद जूनियर राष्ट्रीय चयन पैनल के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद उनको एक नई जिम्मेदारी मिल गई है। वेंकटेश अब आईपीएल सीज़न 11 में प्रीति ज़िंटा की टीम किंग्स इलेवन पंजाब को गेंदबाज़ी कोच के तौर पर नजर आएंगे। प्रसाद ने दो दिन पहले ही जूनियर राष्ट्रीय चयन पैनल के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। आईपीएल का 11वां सत्र अप्रैल में शुरू होगा। किंग्स इलेवन पंजाब ने अपने जारी किए गए बयान में कहा कि, "भारत के पूर्व गेंदबाज और बीसीसीआई की जूनियर राष्ट्रीय चयन समिति के पूर्व अध्यक्ष वेंकटेश प्रसाद गेंदबाजी कोच के तौर पर हमारे साथ होंगे।" वहीं प्रसाद के अलावा आस्ट्रेलिया के पूर्व खिलाड़ी ब्रैड हॉज अगले तीन सत्र के लिए टीम के मुख्य कोच होंगे। आपको बता दें कि खेल के इस प्रारूप में 7000 से ज्यादा रन जुटाने वाले हॉज को पूरा भरोसा है कि टीम के मेंटर वीरेंद्र सहवाग के मार्गदर्शन में वह टीम को सफलता दिला सकेंगे। उन्होंने कहा, "हमारे कोचिंग स्टाफ का प्रत्येक सदस्य काफी अनुभवी है जिससे हमें अच्छा प्रदर्शन करने में मदद मिलेगी।" दिल्ली के खिलाड़ी मिथुन मन्हास टीम में सहायक कोच होंगे। निशांत ठाकुर अनुकूलन कोच, श्यामल वल्लभजी तकनीकी कोच और निशांत बोरदोलोई क्षेत्ररक्षण कोच होंगे।" सहवाग ने कहा, "हम वेंकटेश के साथ इस साल टीम के लिये विदेशी कोच रखकर खुश हैं. मुझे पूरी उम्मीद है कि टीम को उनके अनुभव से काफी फायदा होगा।"


  Share Article On :  

             Share  

कोलकाता नाइट राइडर्स का कप्तान बन ट्रोल हुए कार्तिक, लोग बोले- मजाक चल रहा है क्या?

(04, March)

भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर-बल्लेबाज दिनेश कार्तिक को इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 11वें संस्करण के लिए कोलकाता नाइट राइडर्स टीम का कप्तान चुना गया है। फ्रेंचाइजी ने रविवार (4 मार्च) को इसकी घोषणा की। कोलकाता टीम ने जनवरी में हुई खिलाड़ियों की नीलामी में 32 वर्षीय कार्तिक को 7.4 करोड़ रुपये में खरीदा था। रॉबिन उथप्पा भी कोलकाता टीम की कप्तानी की रेस में शामिल थे। उन्हें टीम का उप-कप्तान नियुक्त किया गया है। कार्तिक घरेलू क्रिकेट में तमिलनाडु की टीम का नेतृत्व कर चुके हैं। उनके नेतृत्व में टीम ने विजय हजारे ट्रॉफी 2009-10 सीजन का खिताब जीता। कार्तिक ने पिछले साल आईपीएल में गुजरात लॉयंस की टीम के लिए खेला था। उन्होंने 361 रन बनाए थे। इसके बाद से क्रिकेट फैंस ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया है। एक ने तो ये तक कह दिया कि मजाक चल रहा है क्या?


  Share Article On :  

             Share  

Health News

Watch the latest health news

यूपी में मर चुकी है मानवता| बेटे के इलाज के लिए मां ने अस्पताल में मांगी भीख

(20, March)

हाथरसः यूपी के हाथरस जिले में एक बार फिर मानवता शर्मसार हुई है। अपने घायल बच्चे के इलाज के लिए एक गरीब और लाचार मां काे अस्पताल परिसर से लेकर उपजिलाधिकारी कार्यालय तक भीख मांगना पड़ा है। मामला हाथरस के किलागेट क्षेत्र की लाल डिग्गी बस्ती का है। आठ साल का अनिल शाैच के लिए गया था। यहां सूअरों ने उसके ऊपर हमला कर दिया। जिससे वह गंभीर रूप से जख्मी हाे गया। बच्चे की मां ने घायलावस्था में उसे जिला अस्पताल हाथरस में भर्ती कराया। यहां बच्चे का उपचार चल रहा था लेकिन उसकी हालत में कोई सुधार नहीं आया और डॉक्टरों ने उसको इलाज के लिये अलीगढ़ रेफर कर दिया। लेकिन इस गरीब और लाचार माँ के पास उसके इलाज के लिए रुपये नहीं हैं। अपने घायल बच्चे के इलाज के लिए अब इस मजबूर मां को भीख मांगनी पड़ रही है, जिससे उसके बच्चे का इलाज सही से हो सके और उसकी जान बच जाए। आम लाेगाें काे ताे दिख रहा है, लेकिन गूंगे बहरे अधिकारियों के कानों तक इस गरीब मां की आवाज नहीं पहुंच रही है। मदद के लिए खड़ी रही पीड़िता, चने खाने में मस्त रहे उपजिलाधिकारी उपजिलाधिकारी कार्यालय पर शिकायत लेकर पहुंची पीड़िता के मदद की बजाए उपजिलाधिकारी चने खाने में मस्त रहे। गरीब माँ की आवाज उनके कानों तक नहीं पहुंची, लेकिन उनके अदनीस्थों को तो तरस आ गया और उनके अधिकारी और कर्मचारियों ने मदद के नाम पर भीख दे दी।


  Share Article On :  

             Share  

लंबा जीवन जीना है तो आज ही बदल डालें अपनी ये पांच आदतें

(04, March)

हमारी जीवनशैली में कुछ ऐसी आदतें होती हैं जो हमें लगातार नुकसान पहुंचाती हैं और हम इससे अनजान रहते हैं। इससे हमारा जीवनकाल भी छोटा होता जाता है।हमारे देश के लोगों की औसत आयु तकरीबन 80-100 साल के बीच होती है। हर कोई लंबा जीवन जीना चाहता है। लंबा जीवन जीने के लिए जरूरी है कि हमारी सेहत हमेशा दुरुस्त रहे और हम बीमारियों से दूर रहें। स्वस्थ जीवन के लिए सही जीवनशैली की सख्त जरूरत होती है। हमारी जीवनशैली में कुछ ऐसी आदतें होती हैं जो हमें लगातार नुकसान पहुंचाती हैं और हम इससे अनजान रहते हैं। इससे हमारा जीवनकाल भी छोटा होता जाता है। ऐसी ही पांच आदतों के बारे में हम आपको आज बताने वाले हैं जो आपकी आयु को घटाने का काम कर रही हैं। अगर आप लंबी जिंदगी जीना चाहते हैं तो आज ही आपको अपनी इन आदतों को बदल देना चाहिए। ज्यादा मात्रा में नमक का सेवन – अगर आप नमक खाने के बहुत शौकीन हैं और बहुत ज्यादा मात्रा में नमक खाते हैं तो इससे आपकी सेहत को नुकसान पहुंच सकता है। ज्यादा नमक का सेवन आपका ब्लड प्रेशर बढ़ा सकता है। इसके अलावा इस वजह से आपको दिल संबंधी बीमारी भी हो सकती है।सफाई पर ध्यान न देना – अगर आप जिम, फील्ड या फिर बाहर से आने पर किसी एंटी-बैक्टीरियल साबुन से अपना हाथ नहीं धुलते तो इससे आपके शरीर में काफी मात्रा में बैक्टीरिया प्रवेश कर जाते हैं। ये बैक्टीरिया कई तरह की बीमारियों की वजह बनते हैं। इससे आपकी आयु में कमी आती है। नाखून चबाना – बहुत से लोगों की अपना नाखून चबाने की आदत होती है। लोगों को यह कोई अनहेल्दी आदत नहीं लगती लेकिन नाखून चबाना कई तरह का घातक बीमारियों की वजह बन सकती है। नाखूनों में कई तरह के बैक्टीरिया उपस्थित होते हैं जो शरीर में प्रवेश कर खून की सांद्रता कम कर देते हैं। इससे आपकी सेहत को बहुत नुकसान पहुंचता है। नाश्ता ठीक से न करना – हर रोज नाश्ते को इग्नोर करना आपके मेटाबॉलिज्म और इम्यूनिटी को प्रभावित करता है। इससे आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता और मेटाबॉलिज्म कमजोर होते हैं। ऐसे में बीमारियों का प्रतिरोध ठीक तरीके से नहीं हो पाता और आप लगातार बीमारियों की चपेट में आते रहते हैं। देर रात में स्नैक्स का सेवन – अगर आप देर रात स्नैक्स खाने के आदी हैं तो यह भी आपके जीवनकाल को कम करने में अपनी भूमिका निभा रहा है। देर रात अनहेल्दी फूड्स का सेवन करना आपके मेटाबॉलिज्म को कमजोर कर देता है। इस वजह से तमाम बीमारियों के हमले बढ़ जाते हैं।


  Share Article On :  

             Share  

मुहांसों से लेकर दिल की बीमारियों तक के लिए रामबाण इलाज है काला जीरा कही जानी जाने वाली कलौंजी, जानिए फायदे

(04, March)

ऐसा कहा जाता है कि मृत्यु को छोड़कर कलौंजी इंसान को होने वाली हर छोटी-बड़ी बीमारी को ठीक करने में मददगार हो सकता है।कलौंजी निजेला सेटिवा नाम से भी जाना जाता है। इसके अलावा इसे काला जीरा भी कहते हैं। आयुर्वेद में कलौंजी के बहुत सारे फायदों के बारे में बताया गया है। ऐसा कहा जाता है कि मृत्यु को छोड़कर कलौंजी इंसान को होने वाली हर छोटी-बड़ी बीमारी को ठीक करने में मददगार हो सकता है। तो चलिए ऐसी ही कुछ स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में आपको बताते हैं जिनमें आप कलौंजी का इस्तेमाल बेहतर फायदे के लिए कर सकते हैं। मुहांसों के लिए – तमाम तरह के एंटी-एक्ने क्रीम्स का इस्तेमाल करने के बाद भी अगर मुहांसों से छुटकारा नहीं मिल पाया है तो कलौंजी के तेल का इस्तेमाल आपकी इस समस्या में मददगार हो सकता है। आधा चम्मच कलौंजी के तेल में एक कप मौसम्बी का जूस मिलाइए और मिश्रण को चेहरे पर लगाइए। दिन में दो बार इस नुस्खे को आजमाइए। कुछ ही दिनों में मुहांसों से निजात मिल जाएगा।बालों के लिए – कलौंजी के तेल की कुछ मात्रा को गर्म कर लीजिए। अब इससे आपने बालों की जड़ों में मसाज कीजिए। तकरीबन एक घंटे बालों को ऐसे ही रहने दीजिए । सप्ताह में दो या तीन बार ऐसा करने पर न सिर्फ बालों का झड़ना कम हो जाएगा बल्कि नए बालों के उगने में भी मदद मिलेगी। याद्दाश्त के लिए – उम्र बढ़ने के साथ-साथ भूलने की बीमारी भी बढ़ने लगती है। किसी भी उम्र में अगर आपको कमजोर याद्दाश्त की समस्या है तो इससे निजात पाने के लिए कलौंजी का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए पुदीने की कुछ पत्तियों को उबालकर उसमें आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाइए। इस मिश्रण का दिन में दो बार सेवन कीजिए। इसके अलावा आप कलौंजी के बीज को पीसकर उसमें शहद और कलौंजी का तेल मिलाकर भी खा सकते हैं।ब्लड प्रेशर के लिए – अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तो आप अपने किसी पसंदीदा ड्रिंक में कलौंजी के तेल को मिलाकर सेवन कीजिए। इससे आपका ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है। लीवर की समस्या में – लीवर में समस्या की वजह से होने वाला पीलिया कभी-कभी जानलेवा हो सकता है। ऐसे में इससे बचाव के लिए कलौंजी के तेल का इस्तेमाल बेहद प्रभावी होता है। इसके लिए कुछ अजवाइन के बीज को रात भर के लिए भिगोकर रख दें। सुबह इसे निचोड़कर इसमें आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाएं। इस ड्रिंक को दिन में एक बार सेवन करें। इससे लीवर संबंधी हर समस्या से राहत मिलती है। दिल के रोगों के लिए – बकरी के एक कप दूध में आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर ड्रिंक बना लें। इसे दिन में दो बार तकरीबन 10 दिनों तक पिएं। इस ट्रीटमेंट के दौरान फैटी और ऑयली फूड्स से परहेज करें। इससे दिल संबंधी सभी बीमारियों से सुरक्षा मिलती है}


  Share Article On :  

             Share  

स्मोकिंग करने वाले जरूर पिएं हल्दी-अदरक से बनी ये ड्रिंक, फेफड़े रहेंगे साफ, टलेगा कैंसर का खतरा

(04, March)

हल्दी और अदरक की मदद से आप स्मोकिंग तो छोड़ ही सकते हैं साथ ही साथ शरीर में इस वजह से एकत्रित विषाक्त तत्वों से भी आराम से छुटकारा पा सकते हैं।स्मोकिंग भारत में बीमारियों से होने वाली मौतों में सबसे बड़ी वजह होती है। स्मोकिंग की वजह से मरने वाले लोगों की संख्या के मामले में भारत दुनिया के शीर्ष चार देशों की लिस्ट में शुमार है। स्मोकिंग की वजह से कैंसर, हर्ट अटैक, अल्सर, ओस्टिओपोरोसिस, स्ट्रोक और एम्फीजिमा जैसी बीमारियां होती हैं। तंबाकू स्मोकिंग से सबसे ज्यादा खतरा कैंसर होने का होता है। सिगरेट में पाए जाने वाले निकोटिन की लत लग जाने की वजह से इसे छोड़ना मुश्किल हो जाता है। जब भी कोई इसे छोड़ने की कोशिश करता है तो उसे नींद में दिक्कत, मितली, चिड़चिड़ापन, बेचैनी और कॉन्संट्रेशन में दिक्कत जैसे लक्षण दिखाई पड़ते हैं। ऐसे में स्मोकिंग छोड़ने के लिए आपको काउंसलर या फिर निकोटिन पैचेज, गम, इन्हेलेटर्स और माउथ स्प्रे आदि की मदद लेनी पड़ती है। स्मोकिंग छोड़ने और शरीर को विषाक्त तत्वों से मुक्त करने के लिए आप प्राकृतिक उपायों का भी सहारा ले सकते हैं।हल्दी-अदरक रेसिपी – हल्दी और अदरक की मदद से आप स्मोकिंग तो छोड़ ही सकते हैं साथ ही साथ शरीर में इस वजह से एकत्रित विषाक्त तत्वों से भी आराम से छुटकारा पा सकते हैं। अदरक की जड़ों में मितली से निजात दिलाने की क्षमता होती है, जो स्मोकिंग छोड़ने के बाद सबसे ज्यादा परेशान करने वाले लक्षणों में से एक है। हल्दी में कैंसररोधी तत्व भारी मात्रा में पाए जाते हैं। हल्दी एंटी-इन्फ्लेमेट्री, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-कैंसर और एंटी-टॉक्सिटी गुणों से भरपूर होता है। यह शरीर से विषाक्त तत्वों को बाहर कर तमाम बीमारियों के खतरों से बचाने में हमारी मदद करता है। इस रेसिपी में चौथा कंटेंट है प्याज का। प्याज में एंटी-इन्फ्लेमेट्री गुण भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। यह फेफड़ों के कैंसर से बचाव करने में सक्षम होते हैं। रेसिपी बनाने की विधि – हल्दी-अदरक रेसिपी बनाने के लिए आपको अदरक का एक छोटा सा टुकड़ा. 400 ग्राम कटा हुआ प्याज, दो चम्मच हल्दी, एक लीटर पानी और थोड़े से शहद की जरूरत पड़ती है। सबसे पहले पानी में अदरक और प्याज को मिलाकर उबाल लें। पानी में थोड़ा और अदरक मिलाएं और फिर हल्दी डाल दें। गैस की आंच कम कर दें और सामग्री को कुछ देर उबलने दें। दिन में दो बार या फिर जब भी आप स्मोक करें, इस मिश्रण को पीना शुरू कर दें। इससे आपके फेफड़े साफ रहेंगे और आप स्मोकिंग के तमाम दुष्प्रभावों से बच जाएंगे।


  Share Article On :  

             Share  

लिवर और किडनी के लिए फायदेमंद है गन्ने का जूस, जानें और फायदे

(22, February)

गन्ने के जूस में आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम और कई तरह के इलेक्ट्रोलाइट्स पाए जाते हैं जो शरीर के डिहाइड्रेशन को खत्म करने के लिए बेहद जरूरी हैं।ब्राजील के बाद भारत दुनिया में सबसे ज्यादा गन्ना उत्पादन करता है। गन्ने से बने चीनी और गुड़ के अलावा इसके जूस का भी खूब सेवन किया जाता है। गन्ने का जूस स्वास्थ्य की दृष्टि से काफी लाभकारी होता है। इसमें भारी मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो हमारे पाचन तंत्र के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं तथा संक्रमण से भी बचने में सहायता करते हैं। गन्ने के जूस में आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम और कई तरह के इलेक्ट्रोलाइट्स पाए जाते हैं जो शरीर के डिहाइड्रेशन को खत्म करने लिए बेहद जरूरी हैं। यह शरीर में प्रोटीन लेवल को बढ़ाने का भी काम करता है, साथ ही बुखार, संक्रमण आदि से लड़ने में हमारी मदद भी करता है। गन्ने का जूस कई तरह की अन्य गंभीर बीमारियों में भी काफी लाभकारी है। आज हम आपको इसके कई सारे लाभ के बारे में बताने जा रहे हैं। गन्ने का जूस डाइयूटेरिक यानी मूत्रवर्धक होता है। यह शरीर में मूत्र संबंधी क्षेत्रों में संक्रमण होने से बचाता है। इसके अलावा किडनी में पथरी होने से भी बचाव करता है। किडनी के ठीक तरह से काम करने में भी गन्ने का जूस काफी सहायक होता है। गन्ने का जूस एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक औषधि है। यह हमारे लीवर को शक्ति प्रदान करता है।पीलिया रोग के उन्मूलन में गन्ने के जूस का सेवन वरदान की तरह काम करता है। पीलिया में लीवर के ठीक तरह से काम न करने की वजह से शरीर के द्रवों में बिलरुबिन की अधिकता हो जाती है। इस वजह से हमारे शरीर की त्वचा पीली हो जाती है। ऐसे में गन्ने का जूस शरीर में प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों की कमी को पूरा करता है जिससे पीलिया से उबरने में मदद मिलती है। गन्ने के जूसे का ग्लाइकेमिक इंडेक्स काफी कम होता है, इसलिए यह डायबिटीज को रोगियों के लिए बेहतरीन औषधि है। इसमें भारी मात्रा में खनिज तत्व पाए जाते हैं जिसकी वजह से यह दांतों की हर तरह की समस्या के लिए एक कारगर उपाय होता है। अगर आपकी सांसों से बदबू आती है तो आपको गन्ने के जूस का सेवन करना चाहिए। इससे बदबू से जल्द ही राहत मिल जाएगी।


  Share Article On :  

             Share