NEWS FEED

11, March

मेरीकलम ~इसीलिए लोग डरते हैं...(राहुल पांडेय )

NEWS FEED

इसीलिए लोग डरते हैं... जब बलात्कारियों ने निर्भया और उसके दोस्त को बुरी हालत में सड़क पर फेंक दिया, तब वहाँ से सेना के रिटायर्ड हवलदार राजकुमार सिंह गुज़र रहे थे। उन्होनें तुरंत पुलिस को फ़ोन किया, निर्भया और उसके दोस्त के लिए पानी लाए और तब तक वहीं रुके रहे जब तक पुलिस वहाँ नहीं पहुँची। जब पुलिस निर्भया और उसके दोस्त को अस्पताल ले गई, तभी राजकुमार सिंह अपने घर गए। पुलिस ने राजकुमार सिंह को केस में गवाह बना लिया... और 6 साल से वे पुलिस स्टेशन व कोर्ट के चक्कर काट रहे हैं। सेना से रिटायर हो चुके राजकुमार सिंह किसी कम्पनी में काम करते थे... कम्पनी ने उन्हें निकाल दिया... तब से वे किसी नौकरी में लम्बे समय तक नहीं टिक पाए क्योंकि उन्हें अक्सर पुलिस स्टेशन या कोर्ट जाना पड़ता है। चार साल पहले तीस हज़ार से अधिक कमाने वाले राजकुमार सिंह आज 14,000 रुपए की नौकरी कर किसी तरह अपने परिवार का पालन कर रहे हैं। राजकुमार सिंह के पड़ोसी, रिश्तेदार, दोस्त व उनके बारे में जानने वाले अब किसी पीड़ित की सहायता कैसे और क्यों करेंगे? अब वे भी पीड़ित के पास से यही कहते हुए गुज़र जाएँगे कि "छोड़ यार, कौन कोर्ट कचहरी के चक्कर में पड़े" यह सब सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावज़ूद है कि मददगार को इतना सब सहना पड़ता है। जनता को नसीहत देना ज़रूरी है... लेकिन व्यवस्था को भी अपने गिरेबां में झांकना चाहिए...(राहुल पांडेय )

NEWS FEED


NEWS FEED