ENTERTAINMENT

16, March

फिल्म काशी टू कश्मीर विस्थापित कश्मीरी हिन्दुओ पर आधारित

ENTERTAINMENT

फिल्म की कहानी सभी धर्मो का सम्मान करते हुए पुरे विश्व में फ़ैल रहे कट्टरवाद आतंकवाद और धर्मान्तरण के बीच बॉलीवुड में पहली बार हिन्दुत्वा पर फिल्म का निर्माण शुरू हुवा है जिसमे ध्यान, योग,क्षमा की आज विश्व को कैसे जरुरत है के साथ विश्वशांति केलिए हिन्दुत्वा की उदारता का विश्लेषण होगा | फिल्म काशी टू कश्मीर विस्थापित कश्मीरी हिन्दुओ पर आधारित है तथा वर्तमान में कश्मीर के ताजा घटनाओ और परिस्थितियों को फिल्मांकित किया गया है | कश्मीर के विस्फोटक माहौल और विश्व के त्रासदी में से एक कश्मीरी पंडितो के विस्थापन के लेखक एवं निर्देशक बॉलीवुड के जानेमाने सनोज मिश्रा है .जिनकी हालिया रिलीज ओमपुरी स्टारर फिल्म गांधीगिरी है जो की देश विदेश में चर्चित फिल्म थी | कश्मीर की समस्या पर निर्देशक सनोज मिश्रा पिछले दो वर्षो से रिसर्च कर रहे थे तथा फ़रवरी के प्रथम सप्ताह में बेहद जोखिम भरे माहौल में शूटिंग कश्मीर के वास्तविक जगह डल झील, लाल चौक , हजरतबल दरगाह शंकराचार्य मंदिर सहित अन्य अनेक जगहों पर शुरू की | फिल्म का प्रथम चरण जम्मू कश्मीर में सफलता पूर्वक संपन्न हो चूका है | फिल्म के प्रमुख कलाकारो में विकास चौधरी श्रावणी सहाय,दीपक पंडित,रवि चौधरी, आदित्य राय, गोविन्द नामदेव, अनुपम शुक्ला, ओमकारदास (नथ्था) के साथ पिछले दिनों पाकिस्तान में अपहृत विदेश मंत्री सुश्री सुषमा स्वराज द्वारा वापस लायी गयी उज़्मा अहमद इस फिल्म के माध्यम से बॉलीवुड में प्रवेश कर रही है जिसमे उनके ऊपर हुए पाकिस्तान में अत्याचारों को फिल्मांकित किया जा रहा है | महेंद्र तिवारी और रेडस्क्वॉयर मीडिया द्वारा प्रस्तुत और सह निमार्ता रवि सुधा चौधरी. पाकिस्तान में हुवे बड़े व्यवहार को उज्मा ने देश की मिडिया के साथ साझा किया अब तक़रीबन १० महीनें के बाद उज्मा अहमद पाकिस्तान के कश्मीर में फ़ैले आतंकवादी मंसूबों को को दर्शाती निर्माता दीपक पंडित और निर्देशक सनोज मिश्रा की फिल्म काशी टू कश्मीर में महत्वपूर्ण भूमिका में नजर आएँगी। आज के कश्मीर के हालतो पर आधारित है तो साथ ही १९९० में कश्मीरी पंडितो के कश्मीर छोड़कर जाने की वजह और घटनाओँ को भी दिखाएंगा! उज्मा अहमद ने बताया कि " काशी टू काश्मीर" की कहानी देश के आज के हालात पर आधारित है देश के युवाओ को किस तरह से धर्म , जाति के नाम पर अलगाववादी विचारधारा से जोड जाता है फ़िल्म में एक आतंकवादी समूह है जो युवक और युवतियों को देश के खिलाफ़ मैन्युप्युलेट करता है मुझे इस आतंकवादी समूह के मसुबो से युवतियों को बचाना है. क्योंकि फ़िल्म कि शूटिंग शुरू हो रही है और फ़िल्म के बारे में अभी ज्यादा रिवील नही कर सकते लेकिन जब निर्देशक सॅनोज मिश्रा ने फिल्म कीं कहानी और किरदार के बारे में बताया तो मैने महसूस किया कि यह एक महत्वपूर्ण फ़िल्म है जो मुझे करनी चाहिये

ENTERTAINMENT


ENTERTAINMENT