NATIONAL NEWS

22, February

आर्मी चीफ ने चेताया- बीजेपी से ज्यादा तेज हुआ है मौलाना अजमल की पार्टी का विस्तार

NATIONAL NEWS

असम में एक सेमीनार में सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने चेताया कि मौलाना बदरुद्दीन अजमल की पार्टी ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) का विस्तार भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से तेज हुआ है।असम में एक सेमीनार में शिरकत करने पहुंचे सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने उत्तर पूर्व में आबादी की रफ्तार (जिसे बदला नहीं जा सकता) को रेखांकित करते हुए बुधवार (21 फरवरी) को चेताया कि मौलाना बदरुद्दीन अजमल की पार्टी ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) का विस्तार भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से तेज हुआ है। जनरल रावत ‘भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र में खाई भरने और सीमा को सुरक्षित रखने’ के विषय पर आयोजित सेमीनार में बोल रहे थे। जनरल रावत ने कहा- ”मैं नहीं समझता हूं कि आप इस इलाके की आबादी की रफ्तार को बदल सकते हैं। अगर यह पांच जिलों से आठ और नौ जिलों तक पहुंच गई तो इसके पीछे वजह किसी भी सरकार के रहते लोगों के आने-जाने की दर रही।” उन्होंने कहा- ”एक पार्टी है एआईयूडीएफ, अगर आप देखें तो बीजेपी का इतने वर्षों में जितना विस्तार हुआ, उसके मुकाबले एआईयूडीएफ का तेजी से विस्तार हुआ। जब हम जनसंघ की बात करते हैं और बात करते हैं इसे दो सांसदों से वे कहां पहुंच गए तो हमें यह भी देखना चाहिए कि एआईयूडीएफ असम में तेजी आगे बढ़ रही है। आखिरकार हमें यह देखना होगा कि असम कैसा राज्य होगा।”उन्होंने कहा- ”मैं सोचता हूं कि हमें समझना होगा कि इलाके में जाति, पंथ, धर्म या लिंग को देखे बिना सभी लोगों के साथ रहने में ही भलाई है। मुझे लगता है सबसे अच्छा यह होगा कि जो लोग वहां रह रहे हैं, उन लोगों की पहचान हमारे लिए जोखिम खड़ा करने वालों के रूप में न करके उनसे मिलजुलकर रहा जाए। हमें लोगों को अलग करके, उनकी पहचान करके ज्यादा नुकसान उठाना पड़ेगा। हां, कुछ लोगों की पहचान करना जरूरी है, जो हमारी लिए मुश्किल खड़ी करते हैं और जो अवैध अप्रवासी हैं। लेकिन जहां तक मेरी जानकारी में है तो मुस्लिम आबादी राज्य में 1218 से 1228 के बीच आई, यह पहली बार था जब मुस्लिम असम में आए थे। हमें यह समझना होगा कि वे बाद में नहीं आए, वे पहले आए। वे अहोम के समवर्ती आए।Hindi News - Jansatta मुखपृष्ठराष्ट्रीय आर्मी चीफ ने चेताया- बीजेपी से ज्यादा तेज हुआ है मौलाना अजमल की पार्टी का विस्तार असम में एक सेमीनार में सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने चेताया कि मौलाना बदरुद्दीन अजमल की पार्टी ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) का विस्तार भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से तेज हुआ है। Author जनसत्ता ऑनलाइन February 22, 2018 10:30 am आर्मी चीफ ने चेताया- बीजेपी से ज्यादा तेज हुआ है मौलाना अजमल की पार्टी का विस्तार सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत। (Express Photo/Amit Mehra/File) असम में एक सेमीनार में शिरकत करने पहुंचे सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने उत्तर पूर्व में आबादी की रफ्तार (जिसे बदला नहीं जा सकता) को रेखांकित करते हुए बुधवार (21 फरवरी) को चेताया कि मौलाना बदरुद्दीन अजमल की पार्टी ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) का विस्तार भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से तेज हुआ है। जनरल रावत ‘भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र में खाई भरने और सीमा को सुरक्षित रखने’ के विषय पर आयोजित सेमीनार में बोल रहे थे। जनरल रावत ने कहा- ”मैं नहीं समझता हूं कि आप इस इलाके की आबादी की रफ्तार को बदल सकते हैं। अगर यह पांच जिलों से आठ और नौ जिलों तक पहुंच गई तो इसके पीछे वजह किसी भी सरकार के रहते लोगों के आने-जाने की दर रही।” उन्होंने कहा- ”एक पार्टी है एआईयूडीएफ, अगर आप देखें तो बीजेपी का इतने वर्षों में जितना विस्तार हुआ, उसके मुकाबले एआईयूडीएफ का तेजी से विस्तार हुआ। जब हम जनसंघ की बात करते हैं और बात करते हैं इसे दो सांसदों से वे कहां पहुंच गए तो हमें यह भी देखना चाहिए कि एआईयूडीएफ असम में तेजी आगे बढ़ रही है। आखिरकार हमें यह देखना होगा कि असम कैसा राज्य होगा।” संबंधित खबरें BJP मुख्यालय का पता बदला, उद्घाटन समारोह में बोले पीएम मोदी- बजट से नहीं, सपनों से पूरे होते हैं ऐसे काम कांग्रेस सांसद बोले- बीजेपी वाले रेणुका चौधरी पर ऐसे हंसे जैसे कौरव द्रौपदी पर हंसे थे ओवैसी पर बरसे बीजेपी विधायक, कहा- हिंदुस्तान यानी हिंदुओं का स्थान, जो न बोले वंदे मातरम, वो जाए पाकिस्तान उन्होंने कहा- ”मैं सोचता हूं कि हमें समझना होगा कि इलाके में जाति, पंथ, धर्म या लिंग को देखे बिना सभी लोगों के साथ रहने में ही भलाई है। मुझे लगता है सबसे अच्छा यह होगा कि जो लोग वहां रह रहे हैं, उन लोगों की पहचान हमारे लिए जोखिम खड़ा करने वालों के रूप में न करके उनसे मिलजुलकर रहा जाए। हमें लोगों को अलग करके, उनकी पहचान करके ज्यादा नुकसान उठाना पड़ेगा। हां, कुछ लोगों की पहचान करना जरूरी है, जो हमारी लिए मुश्किल खड़ी करते हैं और जो अवैध अप्रवासी हैं। लेकिन जहां तक मेरी जानकारी में है तो मुस्लिम आबादी राज्य में 1218 से 1228 के बीच आई, यह पहली बार था जब मुस्लिम असम में आए थे। हमें यह समझना होगा कि वे बाद में नहीं आए, वे पहले आए। वे अहोम के समवर्ती आए। Also Read करगिल युद्ध में पाकिस्तान को धूल चटाने वाले BSF जवान की धमकी-इंसाफ नहीं मिला तो हथियार उठा लूंगा राजस्थान में भीड़ की पिटाई से एक और मुस्लिम मजदूर की मौत ये दोनों लोग आसम और उत्तर पूर्वी मंडल के लिए दावा कर चुके हैं। बांग्लांदेश से पलायन के दो कारण हैं। पहला कि उनके लिए जगह नहीं बच रही है, मॉनसून में बड़ा इलाका बाढ़ से ग्रसित हो जाता है और उनके पास रहने लिए संकुचित क्षेत्र बचता है। दूसरा कारण यह है कि हमारे पश्चिमी पड़ोसी के कारण उनके आव्रजन की योजना बनाई जाती है। वे हमेशा यह कोशिश करेंगे कि इस इलाके में वे लोग कब्जा कर लें, यह प्रॉक्सी डाइमेंशन युद्ध है।” उन्होंने कहा कि हमारा पश्चिमी पड़ोसी अच्छे से प्रॉक्सी गेम खेल रहा है, जिसका साथ उत्तरी पड़ोसी दे रहा है।”

NATIONAL NEWS


NATIONAL NEWS