NATIONAL NEWS

05, March

INX मीडिया केस: नेता के खाते में कार्ति ने ट्रांसफर किए थे 1.8 करोड़ रुपए

NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम पर दिनों दिन ईडी का शिकंजा कसते जा रहा है। प्रवर्तन निदेशालय को उनके खिलाफ एक बड़ा सबूत हाथ लगा है। ईडी ने दावा किया है कि कार्ति द्वारा बड़े नेता के खाते में 1.8 करोड़ रुपए ट्रांसफर किया गया है, जिसके संबंध में उन्हें विस्तृत जानकारी मिली है। बता दें कि ईडी अधिकारी राजनीतिक रूप से संवेदनशील और पूर्व वित्तमंत्री के बेटे के मामले की प्रगति पर नजर बनाए हुए है। कार्ति पर आरोप है कि उन्होंने चेन्नई के रॉयल बैंक ऑफ स्कॉटलैंड के अपने खाते से पैसे ट्रांसफर किया था। नेताओं के खाते में पैसे ट्रांसफर सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, कार्ति ने जिन लोगों के खाते में 1.8 करोड़ रुपए ट्रांसफर किए थें, उन प्राप्तकर्ता ने दशकों तक केंद्र में काफी अहम भूमिका निभाई थी, लेकिन उसकी पहचान उजागर करने से साफ मना कर दिया। जांच एजेंसियों का कहना है नाम सामने आने से जांच पर प्रभाव पड़ सकता है। सबूतों के साथ छेड़छाड़ वहीं, सीबीआई का कहना है, ''मामले में हुए अवैध लेन-देन के पुख्ता सबूत हमारे पास हैं। अगर कार्ति को जमानत दी जाती है तो वह उन सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं।'' दूसरी तरफ कार्ति की तरफ से दलील पेश कर रहे अभिषेक मनु सिंघवी ने बहस के दौरान सीबीआई को कुंभकर्ण करार दिया था। 28 फरवरी को CBI ने किया गिरफ्तार बता दें कि सीबीआई ने 28 फरवरी को कार्ति को चेन्नई एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया था, जिसके बाद उनसे 1 मार्च से पूछताछ की जा रही है। सीबीआई ने उन्हें दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में भी पेश किया था। पेशी के दौरान सीबीआई ने कार्ति और उनके सीए भास्करन को जमानत ना दिए जाने का कोर्ट से आग्रह किया था। सीबीआई के निवेदन को ध्यान में रखते हुए कोर्ट ने कार्ति और भास्करन की कस्टडी बढ़ाने के आदेश दिए थें। कार्ति पर आरोप गौरतबल है कि कार्ति चिदंबरम पर आरोप है कि साल 2007 में जब पी. चिदंबरम वित्त मंत्री थे। उस समय कार्ति की आईएनएक्स मीडिया कंपनी ने विदेशी निवेश प्रोत्साहन बोर्ड (एफआईपीबी) से क्लीयरेंस लेकर 305 करोड़ रुपए विदेशी फंड प्राप्त किए थें। इसके एवज में कार्ति को रिश्वत मिली थी।

NATIONAL NEWS


NATIONAL NEWS